सीवर में फंसी स्कूल बस, लोगों ने दिया धरना और अधिकारी को बनाया सांकेतिक रूप से बंधक

Raj Singh Shekhawat | Publish: Apr, 22 2019 07:02:15 PM (IST) Sri Ganganagar, Sri Ganganagar, Rajasthan, India

आश्वासन के बाद शांत हुआ मामला,
श्रीगंगानगर. शहर में जस्सा सिंह मार्ग पर सद्भावना नगर रोड पर सीवर लाइन में सोमवार दोपहर को स्कूल की बस का टायर फंसने से आक्रोशित लोगों ने धरना लगा दिया और आरयूआईडीपी के अधिकारियों के खिलाफ नारेबाजी की। इस दौरान वहां वार्ता को पहुंचे एक अधिकारी को धरने पर बैठा लिया और सांकेतिक रूप से बंधक बनाया। आश्वासन के बाद मामला शांत हुआ।
जानकारी के अनुसार जस्सा सिंह मार्ग से सद्भावना नगर की तरफ जाने वाले रास्ते में सोमवार सुबह स्कूली बच्चों को लेकर जा रही एक बस के अगले टायर सीवर लाइन के गड्ढे में फंस गए। इसके चलते वहां बच्चों को काफी देर तक परेशानी उठानी पड़ी। इस बात से नाराज बच्चों के परिजन व मोहल्ले के लोग जमा हो गए और आरयूआईडीपी व प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की। इस दौरान लोग वहां भांभू चौक पर धरने पर बैठ गए। वहीं मौके पर पुलिस भी पहुंच गई। इसी दौरान वहां आरयूआईडीपी के अधिकारी पंचम पुरुवेन्द्र वार्ता के लिए पहुंचे। धरने पर बैठे लोगों ने उनको भी वहां बैठा लिया और हाथों को एक गमछे से बांधकर सांकेतिक रूप से बंधक बनाया। वार्ता के दौरान लोगों ने एक सप्ताह में सडक़ निर्माण करने व लापरवाही बरतने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की। कंपनी की ओर से पंद्रह दिन में सडक़ निर्माण करने का आश्वासन दिया। इसके बाद मामला शांत हुआ। धरने पर सुरेन्द्र स्वामी, नरेश नायक, श्यामसुंदर, प्रवीण कुमार, गौरव शर्मा, सैम, राजू सहित अन्य लोग मौजूद थे।
इनका कहना है
- अधिकारी को बंधक बनाने जैसी कोई बात नहीं है। वे वार्ता को गए थे और आश्वासन के बाद मामला शांत हो गया। कार्य में देरी के लिए कंपनी को नोटिस भी दिया है और दो करोड़ रुपए की पैनल्टी लगाई है। कंपनी पर दो माह में पांच करोड़ 18 लाख पैनल्टी लगाई जा चुकी है।
आशीष गुप्ता, एसई आरयूआईडीपी श्रीगंगानगर
- लोगों ने सीवर लाइन में बस के टायर फंसने के बाद धरना प्रदर्शन किया था। मौके पर पहुंचे अधिकारियों से वार्ता के बाद मामला शांत हो गया। बंधक बनाने जैसा कोई मामला नहीं हुआ।
हनुमानाराम बिश्नोई, थाना प्रभारी कोतवाली श्रीगंगानगर।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned