10 प्रतिशत कार्मिकों की उपस्थिति से खुल सकेंगे कार्यालय

शिक्षा विभाग ने जारी के निर्देश-

By: Krishan chauhan

Published: 28 May 2021, 10:43 AM IST

शिक्षा विभाग ने जारी के निर्देश--10 प्रतिशत कार्मिकों की उपस्थिति से खुल सकेंगे कार्यालय

श्रीगंगानगर.कोरोना संक्रमण और जन अनुशासन लॉकडाउन के चलते पिछले एक माह से भी अधिक समय से बंद पड़े शिक्षा विभाग के कार्यालय अब खुल सकेंगें। बता दें की माध्यमिक शिक्षा निदेशक ने राज्य, संभाग व जिला स्तरीय कार्यालयों को खोलने की अनुमति संबंधी निर्देश जारी किए हैं। इनमें स्पष्ट किया गया है कि समस्त अधिकारी अपने अधीनस्थ 10 प्रतिशत कार्मिकों के साथ अनिवार्य व आवश्यक प्रकृति के कार्यों के संपादन के लिए उपस्थित हो सकेंगे। इस दौरान सभी अधिकारियों और कर्मचारियों को कोरोना संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए अपने कार्यस्थलों पर राज्य सरकार की ओर से जारी कोविड प्रोटोकॉल का पालन करना जरुरी होगा।

-जिला कलक्टर की अनुमति जरूरी

जिले में संचालित मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी, जिला शिक्षा अधिकारी मुख्यालय माध्यमिक व प्रारंभिक, डाइट, मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी व जिला क्षेत्राधिकार के अन्य समस्त शिक्षा विभाग के कार्यालय को संबंधित जिला कलेक्टर की अनुमति प्राप्त करने के बाद ही खोला जा सकेगा। संबंधित कार्यालय अध्यक्ष यह सुनिश्चित करेगा कि जिस कार्य से कार्यालय खोला जा रहा हो,वह कार्य अनिवार्य में आवश्यक प्रकृति का हो।
-एपीओ कार्मिकों को उपस्थिति अंकन में छूट
निदेशालय की ओर से जारी आदेशों में स्पष्ट किया गया है कि जब तक पूर्ण क्षमता से कार्यालय नहीं खुलते हैं तब तक एपीओ व निलंबित कार्मिकों को उपस्थिति अंकल के लिए कार्यालय में उपस्थित होने की आवश्यकता नहीं होगी। साथ ही किसी भी कार्मिक द्वारा इन निर्देशों की अवहेलना करने पर लॉकडाउन निर्देशों का उल्लंघन मानते हुए विभागीय कार्रवाई की जा सकेगी।

अत्यावश्यक कार्य पर कार्यालय खुलने की स्थिति में बाह्य आगंतुकों के कार्यालय में आवागमन पर सख्त प्रतिबंध रहेगा। राजकार्य के लिए डाक-इ मेल के माध्यम से कार्यालय में संपर्क किया जा सकता है।
-अमरजीत सिंह लहर,अतिरिक्त जिला शिक्षा अधिकारी,माध्यमिक शिक्षा,श्रीगंगानगर

Krishan chauhan Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned