नशा छुड़ाने को पुलिस ने लगाए 157 जागरुकता शिविर, साढ़े तीन हजार लोग हुए शामिल

- कार्रवाई के साथ ही जागरुकता भी

By: Raj Singh

Published: 24 Feb 2021, 12:03 AM IST

श्रीगंगानगर. जिले में चलाए गए नशा मुक्ति अभियान के तहत जहां एक तरफ ऑपरेशन प्रहार के तहत नशा तस्करों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है, वहीं नशा छुड़ाने के लिए जागरुकता शिविर लगाए जा रहे हैं।


पुलिस अधिकारियों ने बताया कि नशे के खिलाफ ऑपरेशन प्रहार के साथ ही जिले में नशा छुड़ाने के लिए शिविर लगाए जा रहे हैं। इसके लिए सभी थाना प्रभारियों को अपने-अपने इलाके में विद्यालयों, पंचायतों में नशा मुक्ति शिविर लगाकर लोगों को नशे के खिलाफ जागरुक करने के निर्देश दिए गए थे।

इसके तहत पुलिस विभाग के अलावा अन्य विभागों के अधिकारियों व कर्मचारियों को भी शामिल किया गया है। 12 नवंबर 2020 से 14 फरवरी 2021 तक जिले के 27 थानों में पुलिस की ओर से अन्य विभाग के तालमेल के आधार पर 157 जागरुकता शिविर लगाए गए। इन शिविरों में करीब साढ़े तीन हजार से अधिक लोगों को नशा छोडऩे व छुड़वाने के लिए जागरुक किया गया।


27 में से 4 थाने में शिविर लगाने में पीछे
- पुलिस अधीक्षक की ओर से सभी 27 थाना इलाके में ऐसे जागरुकता शिविर लगाए जाने के निर्देश दिए गए थे। लेकिन नशे के खिलाफ जागरुकता शिविर लगाने में कोतवाली, पुरानी आबादी, महिला थाना व सादुलशहर थाना पुलिस अभी पीछे है। यहां अभी तक एक भी शिविर का आयोजन नहीं हो पाया है। जबकि सबसे अधिक शिविर विजयनगर थाना इलाके में 18 व दूसरे नंबर पर पदमपुर इलाके में 14 शिविर लगाए गए हैं।


इनका कहना है
- पुलिस की ओर से नशा के खात्मे के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। एक तरफ ऑपरेशन प्रहार के तहत धरपकड़ व बरामदगी की कार्रवाई चल रही है। वहीं जिले में प्रत्येक थाना इलाके में नशा छुडाने के लिए जागरुकता शिविर लगाए जा रहे हैं। जिससे लोगों को नशे से होने वाले दुष्प्रभावों की जानकारी मिल सके। इस कार्य में और तेजी लाई जाएगी।
- राजन दुष्यंत, पुलिस अधीक्षक श्रीगंगानगर

Raj Singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned