प्रधान, उपप्रधान बैठक छोडकऱ निकल गए

-प्रधान के खिलाफ निंदा प्रस्ताव पारित

By: pawan uppal

Published: 24 Jul 2018, 09:12 AM IST

श्रीकरणपुर.

पंचायत समिति में सोमवार को प्रशासन स्थाई एवं स्थापना समिति की बैठक हुई। इस दौरान कथित रूप से शोर-शराबा व विवाद होने पर प्रधान व उपप्रधान सहित एक अन्य सदस्य बैठक बीच में ही छोडकऱ चले गए। इसके बावजूद किसी अन्य सदस्य को बैठक का अध्यक्ष बनाकर बैठक हुई। हालांकि प्रधान उस समय अपने कार्यालय में मौजूद थी। प्रकरण को लेकर जहां प्रधान ने बीडीओ पर मनमानी का आरोप लगाया। वहीं बीडीओ ने कहा कि ऐसा वहां मौजूद अन्य सदस्यों के आग्रह पर किया गया।


यूं चला घटनाक्रम
सोमवार सुबह करीब 11 बजे पंचायत समिति सभागार में प्रशासन स्थाई एवं स्थापना समिति की बैठक रखी गई थी। प्रधान अमृतपालकौर बराड़ की अध्यक्षता में शुरू हुई बैठक में उपप्रधान माइकल कंबोज, बीडीओ सुखमिंदर सिंह, समिति के सात अन्य सदस्य व पंचायत प्रसार अधिकारी शामिल हुए। प्रधान ने बताया कि उनकी ओर से रखे गए शिक्षकों के स्थाईकरण संबंधी प्रस्ताव पारित होने के बाद वहां विवाद की स्थिति बनी।


बाहर से आए लोगों ने किया शोर
प्रधान ने बताया कि शांतिपूर्ण चल रही बैठक के दौरान वहां भाजपा नेता बूटासिंह गिल, बलविंद्रसिंह माड़ा व पूर्व प्रधान ओमप्रकाश सोलंकी सहित तीन-चार अन्य लोग यहां पहुंचे और करीब चार माह से सिरे नहीं चढ़ रहे हड्डी ठेका प्रकरण में प्रधान को जिम्मेदार ठहराया। बाहर से आए लोगों ने उनके खिलाफ निंदा प्रस्ताव लाने की बात कहते हुए शोर शराबा किया। घटनाक्रम से आहत होकर वह (प्रधान), उप प्रधान व सदस्य किंद्रजीत कौर बैठक से बाहर निकल आए। प्रधान का आरोप है कि उनके बैठक से निकलने के बावजूद बीडीओ ने मनमानी कर बैठक की और कई प्रस्ताव पारित किए, जो अवैध हैं।


सदस्यों के आग्रह पर हुई कार्यवाही
उधर प्रधान की अनुपस्थिति में हुई बैठक को लेकर विकास अधिकारी सुखमिंद्र सिंह ने बताया कि ऐसा वहां मौजूद अन्य छह सदस्यों (हरजीत कौर, हरेन्द्र कौर, गुरमीत कौर, राजवीर कौर, सतपाल व नाजम सिंह) के आग्रह व व पीइओ दलजीत सिंह, हरजीत सिंह व मक्खनसिंह की टिप्पणी पर किया गया। बीडीओ ने बताया कि प्रधान व उपप्रधान के निकलने पर डायरेक्टर सतपाल की अध्यक्षता में बैठक हुई। इसमें हड्डी ठेके में प्रधान की भूमिका, सरकारी वाहन का उपयोग करते हुए गांव नग्गी में धरने में शामिल होना, निरीक्षण के नाम पर फाइलें मंगवाना और बिना जांच किए वापस लौटाने, बीडीओ के व्यक्तिगत व्हाट्स गु्रप में से नाम हटाने को लेकर जिला परिषद में हंगामा करने व मस्टररोल जारी करने में प्रधान की अनुमति चाहने आदि मुद्दों को लेकर सदस्यों ने प्रधान के खिलाफ निंदा प्रस्ताव पारित किए। वहीं, कार्मिकों के स्थानातंरण संबंधी प्रस्ताव भी पारित किए गए।


‘प्रधान की ओर से लगाए गए सभी आरोप निराधार हैं। बैठक में कोई शोर शराबा नहीं हुआ। बाहर से आए लोग महिला परिजन को लेने आए। ऐसे तो प्रधान के निकलने के बाद उनके पति भी वहां आए थे। प्रधान की अनुपस्थिति में हुई बैठक की वैधता को लेकर उच्चाधिकारियों से मार्गदर्शन मांगा गया है।’
सुखमंदर सिंह, कार्यवाहक बीडीओ पंचायत समिति श्रीकरणपुर।

pawan uppal
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned