तीसरी लहर से निपटने की तैयारी जोरों पर, जिले को भेजे 345 ऑक्सीजन कंस्ट्रेक्टर

- चिकित्सकों व स्टाफ को दी जा रही लगातार ट्रेनिंग

By: Raj Singh

Published: 03 Jul 2021, 10:34 PM IST

श्रीगंगानगर. दूसरी लहर पूरी तरह निपटी नहीं कि अब तीसरी लहर की चिंता सताने लगी है। इसको देखते हुए चिकित्सा निदेशालय की ओर से तैयारियां शुरू कर दी गई है। इसके लिए प्रदेश से जिले के लिए 345 ऑक्सीजन कंस्ट्रेक्टर भेजे गए हैं। वहीं चिकित्सकों व नर्सिंगकर्मियों को लगातार ट्रेनिंग दी जा रहा है।


तीसरी लहर का इतना खतरा बढ़ता जा रहा है कि सरकार व चिकित्सा विभाग ने युद्ध स्तर पर तैयारियां शुरू कर दी है। इसके लिए जयपुर से दो बार टीमें यहां राजकीय चिकित्सालय का दौरा कर चुकी हैं और यहां वार्डों, संसाधनों की स्थिति देख चुकी है। वहीं अब लगातार राजकीय चिकित्सालय के चिकित्सकों व नर्सिंगकर्मियों को ट्रेनिंग दी जा रही है।

इसके साथ ही चिकित्सालयों में जिन संसाधनों की कमी है या तीसरी लहर के मरीजों की संख्या बढऩे पर संसाधनों की आवश्यकता पड़ सकती है, वे यहां भेजे जा रहे हैं। जिसमें दवाएं, उपकरण और ऑक्सीजन कंस्ट्रेक्टर शामिल है। हाल ही में सीएमएचओ कार्यालय में चिकित्सा विभाग जयपुर की ओर से 345 ऑक्सीजन कंस्ट्रेक्टर भेजे गए हैं।


अस्पताल में वर्चुअल चल रही ट्रेनिंग
- राजकीय चिकित्सालय में चिकित्सकों व नर्सिंग स्टाफ को एसएमएस हॉस्पिटल के वरिष्ठ चिकित्सकों की ओर से वर्चुअल ट्रेनिंग दी जा रही है। वहां चिकित्सक इलाज के दौरान का वीडिया बनाकर यहां भेज रहे हैं और ऑनलाइन बता भी रहे हैं। जिसमें ऑक्सीजन थैरेपी, वेंटीलेटर, बायपैप सहित अन्य जानकारियां दी जा रही है।

इससे आने वाले समय में चिकित्सकों को इलाज के समय काम आएंगी। वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशन में इलाज किया जाएगा। वहीं जयपुर से चिकित्सकों की टीमें दो बार राजकीय चिकित्सालय श्रीगंगानगर व सूरतगढ़ चिकित्सक का दौरा कर चुकी हैं। जहां वे तीसरी लहर से निपटने के लिए संसाधनों, स्टाफ, चिकित्सक आदि की जानकारी लेकर गई हैं। वहीं जो संसाधन कम उनकी जल्द आपूर्ति की जाएगी।


एक माह पहले बना दिया वार्ड
- तीसरी लहर की आंशका बच्चों में आने की संभावना जताई जा रही है। इसके चलते करीब एक माह पहले राजकीय चिकित्सालय में एक वार्ड आरक्षित कर दिया गया है। जिसमें करीब 22 बेड की व्यवस्था कर दी गई थी। वहीं आईसीयू व अन्य संसाधन जुटाए जा रहे हैं। जिससे वक्त पडऩे पर तत्काल काम में लिया जा सके।


इनका कहना है
-कोरोना की संभावित तीसरी लहर को देखते हुए सरकार व चिकित्सा विभाग सचेत है और प्रत्येक जिले में संसाधन व दवाएं आदि भेजे जा रहे हैं। जिले को हाल ही में 345 ऑक्सीजन कंस्टे्रक्टर मिले हैं। जिनको जिले की सीएचसी, पीएचसी पर भेजा जाएगा। विभाग पूरी तैयारियों में जुटा है।
डॉ. गिरधारीलाल मेहरडा, सीएमएचओ श्रीगंगानगर


- कोरोना की तीसरी लहर की आशंका के चलते जयपुर से दो टीमें अस्पताल का दौरा कर चुकी है और अब चिकित्सकों व स्टाफ की ऑनलाइन टे्रनिंग चल रही है। एसएमएस अस्पताल के चिकित्सक ट्रेनिंग दे रहे हैं।
- डॉ. बलदेव सिंह, पीएमओ राजकीय चिकित्सालय श्रीगंगानगर

Raj Singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned