चालीस साल की उम्र में याद आया जन्म प्रमाण पत्र बनवाना

नगर परिषद सफाई कर्मी सीधी भर्ती में जन्म प्रमाण पत्र बनाने के लिए अब हौड़ सी मच गई है।

By: vikas meel

Published: 25 Apr 2018, 09:06 PM IST

श्रीगंगानगर।

नगर परिषद सफाई कर्मी सीधी भर्ती में जन्म प्रमाण पत्र बनाने के लिए अब हौड़ सी मच गई है। पिछले दस दिनों में नगर परिषद की जन्म-मृत्यु पंजीयन शाखा से 380 जन्म प्रमाण पत्र जारी हो चुके है। इससे कहीं ज्यादा प्रमाण पत्र बनवाने के लिए आवेदन आ चुके है। इस महीने के अंत तक सबसे ज्यादा प्रमाण पत्र बनने की संभावना जताई जा रही है। इस भर्ती में जन्म प्रमाण पत्र की बाध्यता होने के कारण चालीस साल पहले जन्मे लोग अपना प्रमाण पत्र बनवाने के लिए आ रहे है। इस महीने 609 कुल प्रमाण पत्र नगर परिषद अकेले ने जारी किए है। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि इस सरकारी नौकरी पाने में लोकल से ज्यादा बाहरी अभ्यार्थी अधिक आ रहे है।

 

नगर परिषद के गोदाम स्थित काउण्टर से अब तक तीन हजार इस भर्ती के आवेदन फार्म बांटे जा चुके है। सरकार ने नगर परिषद में 144 सफाई कर्मी पदों पर सीधी भर्ती के लिए आवेदन मांगे है। इधर, पार्षदों के घरों पर अभ्यार्थी और उनके रिश्तेदारों बार बार चक्कर लगाकर आवेदन फार्म के साथ लगने वाले दस्तावेज बनवाने के लिए मिन्नतें निकाल रहे है। पार्षद के मुहर लगे चरित्र प्रमाण पत्र बनवाने के लिए नगर परिषद और संबंधित पार्षदों के घरों में ऐसे लोगों की आवाजाही एकाएक बढ़ी है। अब तक एक ही आवेदन जमा तीन हजार से अधिक आवेदन फार्म वितरिण होने के बावजूद नगर परिषद में एक ही आवेदन जमा हो पाया है।

 

आवेदन जमा कराने के लिए होर्डिग्स शाखा के लिपिक विनोद गर्ग ने बताया कि आवेदन फार्म के साथ कई दस्तावेज लगाने जरूरी है, ऐसे में लोग दस्तावेज बनाने में जुटे है। उन्होंने बताया कि एक ही आवेदन जमा हो पाया है। अगामी दिनों में यह काफी बढ़ जाएगी। इसे देखते हुए परिषद ने राजस्व अधिकारी लाजपतराय बिश्नोई की अगुवाई में टीम भी गठित की है। पंजाब और हरियाणा से आने लगे लोग कई लोगों ने अपने पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश से भी रिश्तेदारों के नाम से आवेदन जमा कराने के लिए दस्तावेज बनवाने शुरू कर दिए है।

 

ऐसे लोगों ने अपने रिश्तेदारों और परिचितों के नाम से आईडी, जन्म प्रमाण पत्र, चरित्र प्रमाण पत्र बनाने लगे है। परिषद में 144 सफाई कर्मचारियों के पदों की सीधी भती के लिए चयन की प्रक्रिया लॉटरी से की जाएगी। इसलिए अभ्यार्थियों में उत्साह अधिक है। लॉटरी में भाग्यशाली अभ्यार्थियों का चयन होने की संभावन को देखते हुए फार्म लेने वालों की संख्या इसलिए दुगुनी हुई है।

vikas meel
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned