नगर पालिका चुनाव में दांव पर लगी दिग्गजों की प्रतिष्ठा

Reputation of veterans at stake in municipal elections-श्रीगंगानगर जिले में भाजपा और कांग्रेस के लिए सिरदर्द बना यह चुनाव.

By: surender ojha

Published: 22 Nov 2020, 11:26 AM IST

श्रीगंगानगर. जिले की रायसिंहनगर, श्रीविजयनगर, अनूपगढ़, श्रीकरणपुर, गजसिंहपुर, पदमपुर, केसरीसिंहपुर और सादुलशहर नगर पालिकाओं में इस बार मुकाबला रोचक रहेगा। रायसिंहनगर में भाजपा विधायक बलवीर लूथरा और सांसद निहालचंद मेघवाल खेमा अपने अपने चेहतों को टिकट दिलाने की जुगात कर रहा है।

वहीं पूर्व विधायक और कांग्रेस नेत्री सोना देवी बावरी और पूर्व विधायक दौलतराज नायक खेमे एक दूसरे को पटखनी देने के लिए भूमिका बना रहे है। वहीं अनूपगढ़ में भाजपा विधायक संतोष बावरी और कांग्रेस के कुलदीप इंदौरा के बीच कशमकश बनी हुई है। वहीं श्रीकरणपुर में कांग्रेस दिग्गज और मौजूदा विधायक गुरमीत सिंह कुन्नर और पूर्व मंत्री सुरेन्द्रपालसिंह टीटी एक बार फिर से आमने सामने जैसी स्थिति हो गई है।

यही हाल सादुलशहर का है। यहां कांग्रेसी विधायक जगदीश जांगिड़ और ओम बिश्नोई के खेमे ने अपने अपने लोगों को टिकट दिलाने के लिए जयपुर तक दौड़ लगाई है। प्रदेश में सत्ता रुढ कांग्रेस इन पालिका में अपना बोर्ड बनाने का प्रयास करेगी वहीं भाजपा ने आठों नगर पालिकाओं में कब्जा करने के लिए रणनीतियां तय की है।

लेकिन इन दोनों दलों के लिए टिकट नहीं मिलने से नाराज अंतुष्ट सिरदर्द बन गए है। इन अंतुष्टों ने दोनों दलों के चुनाव पर्यवेक्षकों को साफ साफ बोल दिया है कि टिकट नहीं दिए जाने पर निर्दलीय प्रत्याशी बनकर सारा समीकरण बिगाड़ दिया जाएगा।

दोनों दलों ने लोकल स्तर के अपने संगठन पदाधिकारियों को डैमेज कंट्रोल करने के लिए चुनाव मैदान में उतार दिया है। हालांकि दोनों दलों ने अपने अपने प्रत्याशियों की अंतिम सूची जयपुर से मुहर लगाने के बाद ही सिम्बल जारी करने का निर्णय लिया है।
इस प्रकरण वार्ड पार्षद पद के लिए प्रत्याशियों का नामांकन में महज दो दिन रहे है लेकिन अंतिम तिथि से पहले सबको राजी करने का दावा दोनों दल कर रहे है। इधर, चुनाव आयोग के अनुसार वार्ड पार्षद के प्रत्याशियों के लिए नामांकन की प्रक्रिया 23 नवम्बर से शुरू की जाएगी। नामांकन दाखिल की अंतिम तिथि 27 नवम्बर तय की है। जबकि मतदान 11 दिसम्बर को होगा।

वहीं नए पालिका अध्यक्ष का चुनाव 20 दिसम्बर और उपाध्यक्ष का चयन २१ दिसम्बर को किया जाएगा। पिछली बार इन आठ नगर पालिकाओं में वार्डो की संख्या १५८ थी लेकिन इस बार परिसीमन के बाद वार्डो की संख्या 210 हो गई है। एेसे में नए पालिका बोर्ड में 58 वार्ड पार्षद अधिक चुनकर आएंगे।
इस चुनाव में सबसे ज्यादा दिलचस्पी श्रीकरणपुर विधानसभा क्षेत्र पर है। जिले की आठ नगर पालिकाओं में से चार नगर पालिकाएं श्रीकरणपुर, गजसिंहपुर, केसरीसिंहपुर, पदमपुर नगर पालिका इसी श्रीकरणपुर विधानसभा क्षेत्र में आती है। एेसे में भाजपा ने पूर्व मंत्री, पूर्व विधायक, पूर्व यूआईटी अध्यक्ष, पूर्व नगर परिषद सभापति की डयूटियां लगाई है। वहीं संगठन स्तर पर कई पदाधिकारियों को जातिगत वोटरों पूर्व मंत्री सुरेन्द्र पाल सिंह टीटी, पूर्व जिलाध्यक्ष महेन्द्र सिंह सोढ़ी, श्रीगंगागर यूआईटी अध्यक्ष रहे संजय महिपाल, नगर परिषद के पूर्व सभापति श्याम लाल धारीवाल, भाजपा संगठन के जिला महामंत्री प्रदीप धेरड़, बीकानेर यूआईटी अध्यक्ष रहे महावीर सिंह रांका आदि को बागी उम्मीदवारों की संख्या रोकने से डयूटियां लगाई है। वहीं संगठन स्तर पर अलग अलग प्रभारी और सह प्रभारी भी लगाए है। इधर, श्रीकरणपुर विधानसभा में विधायक गुरमीतसिंह कुन्नर के अलावा पूर्व जिलाध्यक्ष पृथ्वीपाल संधू, राकेश शर्मा, कुलदीप इंदौरा, पूर्व विधायक सोना देवी बावरी आदि को भी वहां अंसतुष्टों पर नजर रखने के लिए अधिकृत किया है।
जिले में रायसिंहनगर पालिका क्षेत्र में ३५ वार्ड, गजसिंहपुर में २० वार्ड, केसरीसिंहपुर में २० वार्ड, श्रीकरणपुर में २५, अनूपगढ में ३५ वार्ड, श्रीविजयनगर में २५, सादुलशहर में २५ और पदमपुर में २५ वार्ड कुल मिलाकर २१० वार्ड है। इन वार्डो में प्रत्याशियों के लिए अंतिम सूची २५ नवम्बर तक आ आएगी।

surender ojha Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned