साब, पूरा परिवार कल से भूखा, रोटी का करो इंतजाम

Call for 180 people in need of food in the city नगर परिषद प्रशासन की ओर से अग्नि शमन सेवा केन्द्र पर नियंत्रण कक्ष में पिछले चौबीस घंटे में 31 परिवारों के 180 लोगों को सूचना है।

श्रीगंगानगर. जैसे ही घंटी बजी तो कॉल अटैण्ड करते ही एक ही सवाल कि साब, हमारा पूरा परिवार कल से भूखा है, रोटी का इंतजाम तो कर दो। इस पर कॉल अटैण्ड करने वाले दमकल कर्मियों ने संबंधित टीम और अधिकारियों को तत्काल सूचना दे दी।

नगर परिषद प्रशासन की ओर से अग्नि शमन सेवा केन्द्र पर एक नियंत्रण कक्ष बनाया है। इस कक्ष में उन लोगों को सूचना देने के लिए कहा गया था, जो बीपीएल, स्टेट बीपीएल, खाद्य सुरक्षा योजना या अन्तोदय योजना से वंचित है।

जरुरमंद परिवारों से मांगे गए फीडबैक पर पिछले चौबीस घंटे में 31 परिवारों के 180 सदस्यों को भोजन की दरकार है। नियंत्रण कक्ष के अनुसार इन परिवारों में रेलवे स्टेशन के पास लाइन से सटी झुग्गी झोपड़ी, राधाकृष्णन कन्या महाविद्यालय, करणी मार्ग, ए माइनर किनारे बसे लोगों अधिक है। इन परिवारों को भोजन की व्यवस्था के लिए जिला रसद अधिकारी राकेश सोनी को अधिकृत किया है।

समाजसेवी संस्थाओं को लगाया लंगर बांटने

इस बीच डीएसओ राकेश सोनी ने बताया कि आशीष दावड़ा, अन्नपूर्णा रसोई, बहावलपुर युवा संघ को लंगर वितरित करने के लिए अधिकृत किया है। ये संस्थाएं और भामाशाह खुद लंगर बंटवाने के लिए संबंधित कॉल आए परिवारों के घर पर जाएंगे। जिन लोगों को भोजन नहीं मिला है, वे कंट्रोल रूम में सीधे कॉल कर शिकायत कर सकते है।

पहली सूची में 200 परिवारों को मिलेगी राशन कीट

नगर परिषद की ओर से 65 वार्डो में 13 टीमों को जरुरतमंद परिवारों का सर्वे कराया गया था, इसमें पहली सूची में दो सौ परिवारों को राशन सामग्री की जरुरत बताई गई है। आयुक्त प्रियंका बुडानिया ने इस सूची को रसद विभाग को सुपुर्द किया है।

इस पर डीएसओ ने राशन सामग्री कीट को उपलब्ध कराने के आदेश जारी किए है। डीएसओ ने बताया कि तपोवन ट्रस्ट ने पन्द्रह हजार, महावीर स्टील वक्र्स ने 25 हजार रुपए, दुर्गा सत्संग प्रबंध समिति ने 21 हजार रुपए, चितलांगिया ट्रस्ट ने 51 हजार रुपए राशन कीट खरीदने के लिए राशि नकद दी है।

surender ojha Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned