अब हर गर्भवती का प्रसव होगा अलग केबिन में

अब हर गर्भवती का प्रसव होगा अलग केबिन में

Jai Narayan Purohit | Publish: Sep, 07 2018 11:20:38 AM (IST) Sri Ganganagar, Rajasthan, India

श्रीगंगानगर.

जिला चिकित्सालय में नव निर्मित एमसीएचयू में अब हर गर्भवती महिला का प्रसव अलग केबिन में होगा। इसके लिए आधुनिक लैबर रूम का निर्माण किया जा रहा है। इससे गर्भवती,प्रसूता व नवजात को बड़ी राहत मिलेगी। राजकीय जिला चिकित्सालय में सवा ११ करोड़ रुपए की लागत से ५० बैड के एमसीएचयू का निर्माण किया जा रहा है।

चिकित्सालय में इतने बैड का एमसीएचयू पहले से है। इस तरह अब एमसीएचयू की क्षमता बढक़र १०० बैड की हो जाएगी। प्रसूता व नवजात आदि की संख्या अधिक होने की वजह से भवन पर्याप्त नहीं था। एक-एक बैड पर दो-दो गर्भवती व प्रसूता आदि को लेटाया जा रहा है। अब इसका विस्तार कर सौ बैड की व्यवस्था की जाएगी।

वर्तमान में बने एमसीएचयू भवन की तीसरी मंजिल पर निर्माण कार्य किया जा रहा है। इसके अलावा इस भवन के सामने बीस सरकारी क्वार्टर तोडक़र नए क्वार्टर का निर्माण किया जा रहा है। अब पीएनसी वार्ड में पर्याप्त जगह नहीं है। इस कारण प्रसूता को गेलरी में बैड लगाकर लेटाया जा रहा है। पोस्ट-ऑपरेटिव वार्ड में २८ बैड हैं लेकिन प्रसूताआें की अधिक संख्या के चलते दिक्कत आ रही है।

एनएचएम के सहायक अभियंता उस्मान खान ने बताया कि एमसीएचयू का निर्माण कार्य चल रहा है। इसे शीघ्र पूरा करने के प्रयास किए जा रहे हैं।

जिला चिकित्सालय में नव निर्मित एमसीएचयू में अब हर गर्भवती महिला का प्रसव अलग केबिन में होगा। इसके लिए आधुनिक लैबर रूम का निर्माण किया जा रहा है। इससे गर्भवती,प्रसूता व नवजात को बड़ी राहत मिलेगी। राजकीय जिला चिकित्सालय में सवा ११ करोड़ रुपए की लागत से ५० बैड के एमसीएचयू का निर्माण किया जा रहा है।

चिकित्सालय में इतने बैड का एमसीएचयू पहले से है। इस तरह अब एमसीएचयू की क्षमता बढक़र १०० बैड की हो जाएगी। प्रसूता व नवजात आदि की संख्या अधिक होने की वजह से भवन पर्याप्त नहीं था। एक-एक बैड पर दो-दो गर्भवती व प्रसूता आदि को लेटाया जा रहा है। अब इसका विस्तार कर सौ बैड की व्यवस्था की जाएगी।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned