पंजाब में 10.74 रुपए सस्ता डीजल होने से हो रही तस्करी, ढाई हजार लीटर तक लाने की छूट

स्थानीय पेट्रोल पंपों को हो रहा नुकसान, बिक्री हो रही कम

By: Raj Singh

Published: 14 Sep 2021, 12:01 AM IST

श्रीगंगानगर. पंजाब में डीजल-पेट्रोल सस्ता होने के कारण जिले में तस्करी खेल चल रहा है और साथ ही यहां के पंपों की बिक्री पर भी खासा असर पड़ रहा है। हालात ये हो गए हैं कि यहां के पंप संचालक बंद करने के कगार पर पहुंच गए हैं।


जिले में 140 पेट्रोल पंप है। इन पेट्रोल पंपों पर एक माह में करीब तीन करोड़ लीटर डीजल की ही बिक्री हो पा रही है। जबकि जिला मुख्यालय से करीब सात किलोमीटर दूर पंजाब बॉर्डर में चौदह पेट्रोल पंप है, जो प्रतिमाह करीब ढाई करोड़ लीटर डीजल की बिक्री कर रहे हैं। जो बहुत ज्यादा है। जिसके चलते जिले के पेट्रोल पंपों की बिक्री घटी है।

साथ ही इलाके में डीजल की तस्करी भी हो रही है और यहां के पेट्रोल पंप बंद होने के कगार पर पहुंच गए हैं। पेट्रोल पंप संचालकों का मानना है कि यदि जिले में एक पेट्रोल पंप बंद होता है तो इसके बाद बंद होने वाले पेट्रोल पंपों की लाइन लग जाएगी। पंपों का खर्चा वहन करना अब संचालकों के बूते से बाहर होता जा रहा है। जितना कमीशन मिलता है, वह पंप संचालन के खर्चे में ही चला जाता है। कमाई की तो बात ही दूर है।


तस्करी के डीजल की होम डिलीवरी
- रसद विभाग के अधिकारी बताते हैं कि जिले में एक साथ ढाई हजार लीटर डीजल लाने की छूट है और इससे अधिक लाने वालों पर कार्रवाई की जाती है। यहां पिकअप में लोग डीजल की तस्करी करते हैं और होम डिलीवरी देते हैं।

इसके चलते जब तक तस्करी के वाहन के पास पुलिस या रसद विभाग पहुंचता है, तब तक डीजल की मात्रा पिकअप में कम हो जाती है। विभाग की ओर से लगातार कार्रवाई की जाती है। जिले में विभाग की ओर से 23 अक्टूबर 2020 से लेकर 10 सितंबर 2021 के बीच तस्करी का 40 हजार लीटर डीजल जब्त किया जा चुका है। साथ ही पाइंट पर डीजल बेचने वालों के पास दो-तीन सौ लीटर डीजल ही मिलता है, जो अपने पास खेत की गिरदावरी रखते हैं और अपने कार्य के लिए लाना बताते हैं।

ऐसे में डीजल तस्करी रोकना मुश्किल हो जाता है। इस डीजल तस्करी में एक हजार से अधिक लोग जुड़े हुए है। अपने वाहनों में दो से तीन हजार लीटर पंजाब के पंपों से खरीदते है और यहां लाकर राजस्थान में डीजल के दाम से दो-तीन रुपए कम में बेच देते हैं।


पंप संचालकों को हो रहा नुकसान
-जिला पेट्रोल पंप एसोसिएशन के पदाधिकारियों का कहना है कि जब तक राज्य में पंजाब के बराबर डीजल व पेट्रोल के भाव नहीं होते हैं। तब तक यहां के पंप संचालकों को कोई फायदा नहीं होने वाला है और धीरे-धीरे डीजल की तस्करी बढ़ती जाएगी। इलाके में पंजाब से भारी मात्रा में डीजल व पेट्रोल आ रहा है। वहीं टैक्स चोरी व राजस्व का नुकसान हो रहा है।

यहां के वाहन वहां पेट्रोल व डीजल लेने के लिए जाते हैं। इसके चलते इस मार्ग पर ट्रेफिक भी बढ़ गया है। ज्यादातर निजी बसें वहीं से डीजल भरवाकर चलती हैं। वहीं अधिकारियों का कहना है कि यहां के कई पेट्राल पंप मालिकों के पंजाब भी पंप है।


रेट में काफी अंतर
- श्रीगंगानगर में 113.03 रुपए लीटर पेट्रोल है और डीजल 102.27 रुपए प्रति लीटर चल रहा है। जबकि पंजाब में जिला मुख्यालय से मात्र सात किलोमीटर दूरी पर ही पेट्रोल के भाव में 9.84 रुपए और डीजल के भाव में 10.74 रुपए का अंतर है। पंजाब में सोमवार को डीजल के भाव 91.53 रुपए व पेट्रोल के भाव 103.19 रुपए प्रति लीटर हैं। इसके चलते दस लीटर पेट्रोल या डीजल पर सीधा सौ रुपए की बचत होती है।


अब बायो डीजल भी आया
- श्रीगंगानगर में अब बायो डीजल भी आ गया है, जिसके चलते पंपों पर बिक्री और कम हो रही है। पंप संचालकों का कहना है कि यहां हनुमानगढ़ रोड पर बायो डीजल बिक रहा है। इससे डीजल की बिक्री कम हुई है। वहीं रसद विभाग के अधिकारियों का कहना है कि बायो डीजल हनुमानगढ़ व श्रीगंगानगर में बिक रहा है। प्रदेश में एक-दो कार्रवाई हुई थी लेकिन बोम्बे हाईकोर्ट ने कंपनी को स्टे दे रखा है। इसलिए वहां कार्रवाई शून्य हो गई। इसलिए बायो डीजल की बिक्री वैध है।


इनका कहना है
- जिले बाहर से ढाई हजार लीटर डीजल लाने की छूट है। इसलिए किसान व वाहन चालक वहां से डीजल लाते हैं। यदि छूट से ज्यादा कोई डीजल लाता है तो कार्रवाई की जाती है। विभाग ने 11 माह के दौरान 40 हजार लीटर डीजल तस्करी को जब्त किया है। इसके अलावा अब बायो डीजल भी बिक रहा है। इस पर कंपनी ने स्टे लिया हुआ है।
- राकेश कुमार सोनी, जिला रसद अधिकारी श्रीगंगानगर


इनका कहना है
- पंजाब से भारी मात्रा में डीजल यहां आने के कारण जिले के पेट्रोल पंप बंद होने के कगार पर पहुंच गए हैं। इसका अभी कोई समाधान निकलता भी नहीं दिख रहा है। डीजल व पेट्रोल में करीब दस रुपए का अंतर है। इसलिए हर व्यक्ति वहां से पेट्रोल व डीजल लाना चाहता है।

Raj Singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned