पेचवर्क के नाम पर पचास लाख रुपए का भुगतान फिर भी जर्जर पड़ी है शहर की अधिकांश गलियां

पेचवर्क के नाम पर पचास लाख रुपए का भुगतान फिर भी जर्जर पड़ी है शहर की अधिकांश गलियां

Surender Kumar Ojha | Publish: Apr, 17 2019 10:48:47 PM (IST) | Updated: Apr, 17 2019 10:48:48 PM (IST) Sri Ganganagar, Sri Ganganagar, Rajasthan, India

श्रीगंगानगर। शहर की जर्जर सडक़ों की मरम्मत के लिए नगर परिषद प्रशासन ने दोहरे मापदंड बना लिए है। इसमें जहां अधिक जर्जर है वहां की सडक़ों की अनदेखी हो रही है। जबकि नगर परिषद सभापति, वार्ड पार्षद के गली मोहल्ले या शहर के वीआईपी के घर या प्रतिष्ठान के आसपास पेचवर्क लगाने में दरियादिली दिखाई जा रही है।

इधर, सभापति के खिलाफत करने वाले पार्षदों की माने तो उनके वार्डो में पेचवर्क का काम जानबूझकर शुरू नहीं कराया जा रहा है, ठेकेदार को मौखिक आदेश देकर काम नहीं करने के लिए पाबंद किया जा चुका है। ऐसे में जवाहरनगर इदिरा वाटिका से लेकर गगन पथ तक, गगन पथ पर सिहाग हॉस्पिटल से लेकर अरोडवंश पब्लिक स्कूल तक, जवाहरनगर सेक्टर छह, पांच, सात और आठ के अलावा भारद्वाज कॉलोनी, गीताभवन के पास, सहयोगनगर, सेतिया कॉलोनी, पुरानी आबादी के ताराचंद वाटिका के पास, धी$गड़ा पार्क के पास सडक़ें जर्जर हो गई है।

इधर, नगर परिषद सभापति अजय चांडक का कहना है कि शहर की सडक़ों के जीर्णोद्धार के लिए बिना भेदभाव से काम कराए जा रहे है। खुद के वार्ड में सडक़ों की मरम्मत करवाना गुनाह नहीं है। मेरे वार्ड की जनता भी शहर से अलग नहीं है। मेरा काम गडढे भरना है बिगडऩा नहीं।

कई पार्षदों की ओर से सभापति के खिलाफ चलाए जा रहे दुष्प्रचार के संबंध में सभापति का कहना था कि यह सही है कि कुछ लोग उनके वार्ड में सडक़ों की हालत सुधारने पर खुश नहीं हो रहे है। शहर की हर सडक़ की सेहत सुधारने के लिए प्रयासरत है।

इस बीच गारंटी पीरियड की सडक़ों पर भी पेचवर्क नगर परिषद की बहती गंगा में ठेकेदारों ने अपने हाथ धो लिए है। ब्लॉक एरिया और पुरानी आबादी में ऐसे मार्गो पर सीसी रोड का निर्माण कराया जिनकी गारंटी पीरियड तीन साल होने का दावा किया गया।

यहां तक कि वार्ड 28 जहां अब सभापति का आवास है, वहां भी सीसी रोड गारंटी पीरियड है, लेकिन सीसी रोड क्षतिग्रस्त होने के उपरांत संबंधित ठेकेदार के खिलाफ नोटिस जारी कर उससे दुरुस्त कराने की बजाय उन ठेका फर्मो को ही पेचवर्क करने का ठेका दे दिया। यही हाल वार्ड 43 में है, यहां सीसी रोड का निर्माण अभी एक साल हुआ है लेकिन पेचवर्क डामर से कराए जा रहे है। पुरानी आबादी के उदाराम चौक से लेकर श्रीराम बारातघर तक सीसी रोड पर भी डामर से पेचवर्क किए जा रहे है।
ज्ञात रहे कि नगर परिषद प्रशासन ने पिछले साल प्रत्येक वार्ड में बीस बीस लाख रुपए निर्माण कार्य कराने की अनुमति दी थी लेकिन तब विधानसभा चुनाव की आचार संहिता लगने के कारण निर्माण कार्य नहीं हो पाए। लेकिन चुनाव के बाद सर्दी बढ़ी तो ये सारे काम रोक दिए गए, अब फिर से लोकसभा चुनाव की आचार संहिता लगी हुई है।

लेकिन नगर परिषद के अधिकारियों का कहना है कि आचार संहिता से पहले वर्क ऑर्डर हो चुके है तो ऐसे में आचार संहिता की अड़चन नहीं आ रही है। जबकि विधानसभा चुनाव के दौरान भी ब्लॉक एरिया की कई गलियों में सडक़ें बनी थी। अब भी वैसा ही खेल नगर परिषद के अधिकारी खेलने में लगे है। कई वार्डो में पार्को में इँटरलोकिंग टाइल्स को दुरुस्त कराने के नाम पर बजट खपा दिया गया है तो कई वार्डो में नालियों को दुरुस्त कराने के एवज में यह बजट समायोजित किया गया है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned