scriptThose dead whose date is not remembered, they will do this Shradh on A | SriGanganagar जिन मृतकों की ति​थि याद नहीं वे अमावस्या पर करवाएंगे यह श्राद्ध | Patrika News

SriGanganagar जिन मृतकों की ति​थि याद नहीं वे अमावस्या पर करवाएंगे यह श्राद्ध

locationश्री गंगानगरPublished: Sep 24, 2022 02:25:01 pm

Submitted by:

surender ojha

Those dead whose date is not remembered, they will do this Shradh on Amavasya - सर्व पितृ अमावस्या को रहेगा बड़ा श्राद्ध, इसी के साथ ही होगा समापन

SriGanganagar जिन मृतकों की ति​थि याद नहीं वे अमावस्या पर करवाएंगे यह श्राद्ध
SriGanganagar जिन मृतकों की ति​थि याद नहीं वे अमावस्या पर करवाएंगे यह श्राद्ध
श्रीगंगानगर। श्राद्ध पक्ष का समापन रविवार को होगा। इस दिन को बड़े श्राद्ध के रूप में मनाया जाएगा। इस दिन भूले बिसरे सभी पितरों का श्राद्ध निकाला जाता है। रविवार को अमावस्या होने के कारण इस श्राद्ध के लिए ज्यादा महत्व दिया गया है। ज्यादातर परिवारों में यह श्राद्ध महिलाओं की ओर से कराया जाता है। महिलाओं को अपने पूर्वजों का श्राद्ध के लिए यह खास दिन तय किया गया है।
शास्त्री संपत शर्मा के अनुसार पितरों का श्राद्ध करने के लिए डाब का प्रयोग आवश्यक रूप से करना चाहिए। हिन्दू धार्मिक मान्यताओं के अनुसार पितरों का तर्पण या श्राद्ध करने के लिए अमावस्या तिथि को खास माना जाता है। वहीं पितृ पक्ष के दौरान आश्विन मास की अमावस्या तिथि को सर्व पितृ अमावस्या कहते हैं।
माना जाता है कि जिन लोगों को अपने पितरों की मृत्यु की सही तिथि पता न हो, ज्ञात अज्ञात पितृ वे सर्वपितृ अमावस्या के दिन उन पितरों का श्राद्ध कर सकते हैं। अमावस्या के दिन पितरों को खुश करने के लिए उन्हें तर्पण देते हुए अपने पूर्वजों के मनपसंद पकवान बनाए जाते हैं। फिर उस भोजन को अपने पितरों का स्मरण करते हुए गाय, कुत्ते या कौए को निमित्त दिया जाता है। साथ ही इस दिन ब्राह्मणों को घर में बना हुआ भोजन करवाकर उन्हें दक्षिणा आदि देने का विधान है। इससे पितरों से जीवन में सुख-शांति और समृद्धि का आशीर्वाद प्राप्त होता है।
श्राद्ध पक्ष में पितरों के निमित ब्राह्मण को भोजन करवाने के लिए इन दिनों बाज़ार और टिफिन सैंटर संचालित करने वालों की ओर से रेडीमेड भोजन की थाली तैयार मिल रही है।
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.