खरीफ के माध्यम से खुशहाली बढ़ाने के लिए मंथन शुरू

https://www.patrika.com/sri-ganganagar-news/

-श्रीगंगानगर-हनुमानगढ़ जिले के अधिकारियों-वैज्ञानिकों ने दिए कई सुझाव

श्रीगंगानगर। आगामी खरीफ के माध्यम से खुशहाली बढ़ाने के लिए श्रीगंगानगर-हनुमानगढ़ जिले के वरिष्ठ अधिकारियों एवं कृषि वैज्ञानिकों ने मंथन शुरू किया है। कृषि अनुसंधान केंद्र में गुरुवार को शुरू हुई दो दिवसीय क्षेत्रीय अनुसंधान व प्रसार परामर्शदात्री समिति (जर्क) की बैठक में उन्होंने कई सुझाव दिए। स्वामी केशवानंद कृषि विश्वविद्यालय के निदेशक (अनुसंधान) डॉ. एसएल गोदारा, संयुक्त निदेशक एएस छीम्पा एवं केंद्र के क्षेत्रीय निदेशक डॉ. उम्मेदसिंह शेखावत सहित कई वक्ताओं का जोर इस बात पर था कि कम उत्पादन लागत में अधिक एवं गुणवत्ता का उत्पादन लिया जाए।

डॉ. गोदारा ने फल-सब्जियों में नए प्रयोग एवं नवाचार की आवश्यकता बताई। डॉ. सीमा चावला ने ग्रामीण कृषिमौसम सेवा संबंधी आंकड़े प्रस्तुत किए। डॉ. विजयप्रकाश आर्य ने नरमा, डॉ. जीएम माथुर ने प्लांट हेल्थ क्लिनिक, डॉ. बीएस मीणा ने कपास, डॉ. सुबोध कुमार बिश्नोई ने बीटी कॉटन आदि से जुड़ा विवरण रखा।

डॉ. आरएस मीणा, डॉ. हनुमानराम, डॉ. एसके बैरवा, डॉ. रूपेश मीणा, डॉ. अनूप कुमार, डॉ. अंजलि शर्मा आदि ने भी विचार रखे। उप निदेशक डॉ. सतीश कुमार शर्मा, डॉ. दानाराम गोदारा, वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. आरपीएस चौहान आदि जर्क की बैठक में भाग ले रहे हैं।

Rajaender pal nikka Photographer
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned