Video: स्वच्छता अभियान पर सवालिया निशान, बंद पड़ा सार्वजनिक शौचालय

उद्धघाटन के बाद से ही शौचालयों पर लगा है ताला

By: सोनाक्षी जैन

Published: 13 Mar 2018, 01:46 PM IST

अनूपगढ। देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा देश भर में विशेष अभियान चलाकर आमजन को स्व'छता अभियान तथा खुले में शौच से मुक्ति अभियान के प्रति जागरूक करते हुए एक अनूठा प्रयास शुरू किया तथा आमजन में गत महीनों में हुए अनेक प्रकार के कार्यक्रमों एवं नगरपालिका द्वारा चलाए गए। अभियान में इसका असर भी नजर आया तथा लोगों ने अपने घरों तथा दुकानों के बाहर कचरा एकत्रित करना शुरू करके कचरा पात्र में डालना आरम्भ किया।

 

खुले में शौच से मुक्ति को लेकर भी गरीब बस्तियों में लोगों में जागरूकता आई तथा सरकार की योजना में नगरपालिका के ही माध्यम से चलाई गई घरों में शौचालय बनाने की योजना ने काफी हद तक इसमें सुधार किया तथा लोगों ने खुले में शौच से छुटकारा पाने के लिए स्वयं को तैयार किया, जोकि अनूपगढ़ जैसे पिछड़े क्षेत्र में इसे आमजन की जागरूकता ही कहा जा सकता है। सरकार ग्रामीण इलाकों में खुले में मल मूत्र नहीं करने के लिए लोगों को जागरूक करने पर करोड़ो खर्च कर रही है।

 

शहर-शहर तथा गांव गांव में सहायता राशि देकर शौचालयों का निर्माण करवा रही है वहीं दूसरी तरफ सरकारी कार्यालयों में ही सरकार के प्रयासों को सिरे नही चढऩे दिया जा रहा है। विडम्बना का विषय है कि सरकार का ही एक उपक्रम केन्द्र सरकार के खुले में शौच मुक्ति अभियान को कमजोर करने पर तुला हुआ है। शहर के तहसील परिसर में बना शौचालय उद्घाटन के बाद से ही बंद पड़ा है। तहसील में सांसद कोटे से बने शौचालयों को बने एक महीने से अधिक समय हो गया है।

 

अपने दौरे के दौरान बीकानेर सांसद एवं केंद्रीय मंत्री अर्जुन मेघवाल ने 26 दिसम्बर 2017 को इस शौचालय का उद्घाटन किया था। तहसील परिसर में कार्य करने वाले लोगों ने कहा कि उद्घाटन के एक घंटे बाद ही शौचालयों को ताला लगा दिया गया था। बाद में आज तक शौचालयों के तालों को नहीं खोला गया है। एक अरायजनवीस ने जानकारी देते हुए बताया कि इस बारे में तहसील प्रशासन को अवगत भी करवाया गया, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई।

 

उन्होंने बताया कि तहसील परिसर में शौचालयों पर ताला होने की वजह से आमजन के साथ तहसील परिसर में काम करने वाले अरायजनवीस तथा वकीलों को परेशानी का सामना करना पड़ता है, सबसे 'यादा परेशानी महिलाओं को महसूस होती है। इस मामले में तहसील प्रशासन ने बताया कि यह शौचालय रोज खुलते है तथा रोज नगरपालिका कर्मचारी इनकी सफाई करते है। आज हो सकता है किसी कारणवश यह ताला लगा रहा गया होगा इसे खुलवा देते हंै।

Show More
सोनाक्षी जैन
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned