जिला मुख्यालय पर पानी के लिए मारामारी

-दो-तीन दिन तक हालात सुधरने के आसार नहीं
-आधे से ज्यादा घरों में भूमिगत टैंक नहीं

By: pawan uppal

Published: 24 May 2018, 07:23 AM IST

श्रीगंगानगर.

जलदाय विभाग की तरफ से अचानक एक दिन छोड़कर पानी सप्लाई करने के निर्णय से शहर में पेयजल संकट गहरा गया है। किसी एक कॉलोनी या वार्ड में नहीं बल्कि पूरे शहर में जलसंकट से हालात विकट हो रहे हैं।

 

Jordan murder case : अपराध की दुनिया में सेहत की चिंता - https://goo.gl/dwAjnk


करीब सप्ताहभर से नहरों में आए दूषित पानी के कारण जिला प्रशासन के निर्देश पर जलदाय विभाग ने डिग्गियों में जल भंडारण बंद कर दिया था। इसके बावजूद शहर में रोजाना की तरह सप्लाई होती रही। डिग्गियों का जलस्तर घटने पर अधिकारियों ने नींद खुली और पानी सप्लाई एक दिन छोड़कर करने का निर्णय ले लिया। शहरवासियों को समाचार पत्रों के माध्यम से ही पता चला कि पानी सप्लाई एक दिन छोड़कर की जाएगी। शहर में आधे से ज्यादा घरों में भूमिगत टैंक नहीं है। उन घरों में जल संकट का ज्यादा सामना करना पड़ रहा है। ऐसे घरों में एक दिन भी जलापूर्ति नहीं होने से हालात बिगड़ जाते हैं। हुआ भी यही और वे बूंद-बूंद पानी के लिए तरस गए।

सबमर्सिबल का सहारा
पुरानी आबादी क्षेत्र में रोजाना पेयजल सप्लाई होने पर भी संकट की स्थिति रहती है। वहां इकांतरे जलापूर्ति से हालात बिगड़ गए हैं। महिला पार्क में पानी देने के लिए लगाए गए सब मर्सिबल से आसपास के लोग पानी भर रहे हैं। सुबह पांच बजे से ही लोग बाल्टियां, घड़े, मटके, ड्रम, गैलन आदि लेकर पार्क की तरफ चल पड़े।

दो-तीन दिन में सुधरेंगे हालात
नहरों में दूषित पानी चलने के कारण डिग्गियों में भंडारण रोका हुआ था। पानी कम रह जाने से इकांतरे जलापूर्ति शुरू की गई थी। अब जांच में पानी सही पाए जाने पर शहरी क्षेत्र में नहरी पानी का भंडारण शुरू किया गया है। दो-तीन दिन में हालात सामान्य हो जाएंगे।
-वीके जैन, कार्यवाहक अधीक्षण अभियंता, जलदाय विभाग श्रीगंगानगर।

Show More
pawan uppal
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned