पंजाब सीमा पर पास की अनिवार्यता समाप्त होने से अब बहनें राखी बांधने जा सकेंगी भाईयों के पास

आवागमन में ढील से लोगों को मिली राहत

By: Raj Singh

Published: 02 Aug 2020, 11:43 PM IST

श्रीगंगानगर. नई गाइड लाइन के अनुसार पंजाब से लगती अंतरराज्जीय सीमा पर आने वालों के लिए पास की अनिवार्यता समाप्त होने के बाद लोगों को काफी राहत मिली है। अब बहनें अपने भाईयों को राखी बांधने जा सकेंगी। वहीं बसें शुरू होने से भी बहनों को राखी पर राहत मिली है। अब नाके पर पंजाब की तरफ से आने वालों की स्क्रीनिंग व लंबी दूरी पर आने वालों के सैंपल लेने के लिए भेजने के निर्देश हैं।


जिला कलक्टर महावीर प्रसाद की ओर से नई गाइड लाइन के अनुसार शनिवार शाम को आदेश जारी किए थे और पंजाब सीमा पर स्थित नाके पर श्रीगंगानगर की तरफ से जाने वाले लोगों के लिए पास की अनिवार्यता समाप्त कर दी थी। इस आदेश से श्रीगंगानगर की तरफ से पंजाब व उससे आगे जाने वाले लोगों को राहत मिली है। अब लोगों को पंजाब की तरफ जाने वालों को पास बनवाने के लिए चक्कर नहीं लगाने पड़ेगे।

अब पंजाब से श्रीगंगानगर के बीच निजी बसें भी शुरू हो चुकी है। रविवार को नाके पर बसें आते व जाते हुए दिखाई दी। इन बसों में ज्यादातर महिलाएं ही सवार रहीं। अब इधर से जाने वालों के लिए कोई रोक टोक नहीं है। पंजाब की तरफ से आने वाले लोगों की एंट्री की जा रही है। वहीं दूर दराज से आने वाले लोगों की एंट्री के साथ ही उनके सैंपल के लिए साधुवाली स्कूल में भेजने के निर्देश हैं। रविवार को नाके से एक करीब एक दर्जन से अधिक लोगों को सैंपल के लिए स्कूल में भेजा गया।


लोगों ने राखी से पहले पास की अनिवार्यता समाप्त करने से पहले बहनों को आवागमन में परेशानी नहीं होगी।

Raj Singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned