scriptपर्यावरण असंतुलन दूर करने सामूहिक जिम्मेदारी का आह्वान | Patrika News
शिक्षा

पर्यावरण असंतुलन दूर करने सामूहिक जिम्मेदारी का आह्वान

उन्होंने सफलता और उत्कृष्टता के लिए दृढ़ता, नवीन सोच और अथक परिश्रम के महत्व को प्रमुख गुणों के रूप में रेखांकित किया।

बैंगलोरJun 21, 2024 / 08:49 pm

Nikhil Kumar

Governor Thawar Chand Gehlot ने समकालीन चुनौतियों का उल्लेख करते हुए पर्यावरण असंतुलन को दूर करने के लिए सामूहिक जिम्मेदारी का आह्वान किया। सभी से जल, जंगल और हवा के संरक्षण की दिशा में काम करने का आग्रह किया। भारत के सांस्कृतिक गौरव को बहाल करने और राष्ट्र को वैश्विक ज्ञान शक्ति के रूप में स्थापित करने में युवाओं की महत्वपूर्ण भूमिका पर जोर दिया।
दृढ़ता, नवीन सोच और अथक परिश्रम शैक्षणिक

वर्ष 2024-25 के लिए बाल्डविन बॉयज हाई स्कूल के अलंकरण समारोह को गुरुवार को संबोधित कर रहे राज्यपाल गहलोत ने युवाओं के कौशल, प्रतिभा और ऊर्जा का दोहन करने के लिए ठोस प्रयासों के महत्व पर प्रकाश डाला। उन्होंने सफलता और उत्कृष्टता के लिए दृढ़ता, नवीन सोच और अथक परिश्रम के महत्व को प्रमुख गुणों के रूप में रेखांकित किया।शिक्षा के महत्व पर विचार करते हुए राज्यपाल गहलोत ने एस. राधाकृष्णन को उद्धृत करते हुए कहा, शिक्षा व्यक्तित्व निर्माण और जीवन में सफलता के लिए मूल्यों और विचारों को आत्मसात करना है। उन्होंने स्वामी विवेकानंद की शिक्षा के बारे में उस दृष्टिकोण को भी याद किया, जो चरित्र निर्माण और मानसिक विकास करता है।
राज्यपाल गहलोत ने भारत की समृद्ध शैक्षिक विरासत के बारे में भावुकता से बात की। नालंदा, तक्षशिला और विक्रमशिला जैसे प्राचीन विश्व स्तरीय संस्थानों का संदर्भ दिया। उन्होंने श्रोताओं को नए नालंदा विश्वविद्यालय की स्थापना के साथ इस विरासत को पुनर्जीवित करने के हाल के प्रयासों के बारे में बताया, जिसका उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नालंदा महाविहार के ऐतिहासिक स्थल के पास किया।स्कूल के अध्यक्ष बिशप एन.एल. करकरे और उपाध्यक्ष डॉ. रविकुमार ने भी समारोह में हिस्सा लिया।

Hindi News/ Education News / पर्यावरण असंतुलन दूर करने सामूहिक जिम्मेदारी का आह्वान

ट्रेंडिंग वीडियो