scriptविदेशी सब्जियों की मांग 25 क्विंटल बढ़ी, किसी को नहीं खाना लौकी-बैंगन-तरोई ! | National Eat Your Vegetables Day 2024: Tremendous increase in demand for foreign vegetables | Patrika News
ग्वालियर

विदेशी सब्जियों की मांग 25 क्विंटल बढ़ी, किसी को नहीं खाना लौकी-बैंगन-तरोई !

National Eat Your Vegetables Day 2024: चाईनीज और मैक्सिकन फूड में विदेशों से आने वाली वेजिटेबल्स का इस्तेमाल होता है। वैसे अधिकतर वेजिटेबल्स अमरीका और ऑस्ट्रेलिया से आती हैं।

ग्वालियरJun 17, 2024 / 01:15 pm

Ashtha Awasthi

Vegetables Day 2024

Vegetables Day 2024

National Eat Your Vegetables Day 2024: वेजिटेबल्स के बिना भोजन अधूरा माना जाता है। यही वजह है कि सीजन के मुताबिक हर तरह की सब्जियां खाना पसंद की जाती हैं। देसी वेजिटेबल्स के साथ-साथ वर्तमान में सात समंदर पार सब्जियों की भी खासी डिमांड है। इनका इस्तेमाल कॉन्टीनेंटल एंड चाइनीज व मैक्सिकन फूड में होता है।
समय के साथ इन वेजिटेबल्स की डिमांड में जबरदस्त इजाफा देखने को मिला है। क्योंकि चाइनीज और मैक्सिकन फूड खाने वाले बढ़े हैं। अक्सर घरों में तो नहीं लेकिन रेस्टोरेंट और शादी समारोह में ये वेजिटेबल्स आसानी से उपयोग होती देखी जा सकती हैं। इसके साथ ही देसी सब्जियों की भी खासी डिमांड बनी रहती है। 17 जून को नेशनल ईट योर वेजिटेबल्स डे मनाया जाता है, इस दिन देसी के साथ-साथ विदेशी सब्जियों का महत्व भी काफी बढ़ जाता है।
ये भी पढ़ें: मैहर मां शारदा मंदिर गई महिला को दिखी 3 डेडबॉडी… मृतकों ने पहने थे जैकेट-शॉल

हर रोज 25 क्विंटल विदेशी सब्जियां खाई जा रहीं

लक्ष्मीगंज थोक सब्जी मंडी के पूर्व व्यापारी प्रतिनिधि अजय सिंह कुशवाह ने बताया कि चाईनीज और मैक्सिकन फूड में विदेशों से आने वाली वेजिटेबल्स का इस्तेमाल होता है। वैसे अधिकतर वेजिटेबल्स अमरीका और ऑस्ट्रेलिया से आती हैं। ग्वालियर में ये सब्जियां इंदौर और दिल्ली से आती हैं। इनमें ब्रोकली, बेलपेपर, आइसबर्ग लेट्यूस, चेरी टोमैटोज, एवाकाडो, बींस, शतावरी, अजमोद, ब्रसेल्स स्प्राउट्स, मशरूम आदि शामिल हैं।
ग्वालियर में रोजाना 20 से 25 क्विंटल विदेशी सब्जियों की बॉक्सेज में आवक होती है और इतनी ही खपत हो जाती है। जहां तक देसी सब्जियों की बात है तो शहर में हर रोज राजस्थान, यूपी आदि जगहों से करीब 70 से 80 टन सब्जियों की आवक होती है। इसके साथ ही लोकल सब्जियां भी सीजन के हिसाब से आती हैं।

इनमें होता है उपयोग

कॉन्टीनेंटल एंड इटेलियन फूड यानी फ्रेंच फ्राइज, पास्ता, गार्लिक टोस्ट, एग्जाटिक पिज्जा, चीज कॉर्न पिज्जा, वेज लसाग्ने, बर्गर आदि में अधिक उपयोग होता है। मैक्सिकन फूड यानी नाचोज, चीज कॉर्न बेक्ड, नाचोज सालसा, टाकोस, टॉर्टिला रेप्स आदि में इन वेजिटेबल्स का यूज होता है। रेस्टॉरेंट संचालक राजू अरोरा बताते हैं कि आज से 10 वर्ष पूर्व तक इन सब्जियों को हर कोई जानता तक नहीं था लेकिन चाइनीज और मैक्सिकन फूड ने इनकी डिमांड खासी बढ़ा दी है। अब तो हर रेस्टॉरेंट और होटल वाले को रोजाना ही इनकी खरीदी करनी पड़ती है।

Hindi News/ Gwalior / विदेशी सब्जियों की मांग 25 क्विंटल बढ़ी, किसी को नहीं खाना लौकी-बैंगन-तरोई !

ट्रेंडिंग वीडियो