जयपुरिया अस्पताल : 10 जुलाई से मरीजों को मिलने लगेंगी ये सुविधाएं

जयपुरिया अस्पताल : 10 जुलाई से मरीजों को मिलने लगेंगी ये सुविधाएं
hospital

guest user | Publish: Jul, 04 2017 02:57:00 PM (IST) राज्य

जयपुरिया अस्पताल में अगले सोमवार से सशुल्क 21 की तरह की जांच सुविधा उपलब्ध रहेंगी। इनमें स्तन कैंसर, किडनी रोग समेत अन्य तरह की कुल 21 जांचें शामिल हैं। जबकी, माइनर ऑपरेशन के 200 रूपए और मेजर ऑपरेशन के लिए 500 रूपए तय किए गए हैं।

मालवीय नगर स्थित जयपुरिया अस्पताल के मरीजों के लिए राहत की एक बड़ी खबर है। अब मरीजों को जांचों के लिए एसएमएस अस्पताल के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे। जयपुरिया अस्पताल में अगले सोमवार से 21 तरह की जांचों की सुविधाएं मिलना आरंभ हो जाएगी।


मंगल पड़ा भारी, तेज रफ्तार कार अनियंत्रित होकर पलटी, कार चालक की मौत...


इस सुविधा के चलते प्रदेश के सबसे बड़े एसएमएस अस्पताल में मरीजों का दबाव कुछ हद तक कम होगा। जयपुरिया अस्पताल में अगले सोमवार से सशुल्क 21 की तरह की जांच सुविधा उपलब्ध रहेंगी।



अस्पताल की राजस्थान रिलिफ सोसायटी की बैठक में सोमवार को 21 प्रकार की जांच और दो प्रकार की शल्य प्रक्रिया के शुल्क का निर्धारण किया गया। जिला कलेक्टर सिद्धार्थ महाजन की अध्यक्षता में आरएमआरएस की बैठक में सभी जांचों की दर एसएमएस अस्पताल के समान तय की गई हैं।


jaipur/suspense-continues-on-rajasthan-gangster-anandpal-singh-last-rites-police-on-special-arrangements-2617810.html">आनंदपाल के दाह संस्कार को लेकर अब आई ये खबर, सांवराद में इकट्ठा हो रहा समाज का हुजूम- पुलिस भी मुस्तैद



जयपुरिया अस्पताल के डिप्टी कंट्रोलर डॉ. राकेश हीरावत ने बताया की अब तक मरीजों को जांचों के लिए एसएमएस अस्पताल के चक्कर लगाने पड़ते थे, लेकिन अब अस्पताल में ही ये सुविधा उपलब्ध हो पाएंगी। इनमें स्तन कैंसर, किडनी रोग समेत अन्य तरह की कुल 21 जांचें शामिल हैं। जबकी, माइनर ऑपरेशन के 200 रूपए और मेजर ऑपरेशन के लिए 500 रूपए तय किए गए हैं। जयपुरिया अस्पताल के डिप्टी कंट्रोलर डॉ. राकेश हीरावत ने बताया की इससे मरीजों की काफी राहत मिलेगी। साथ ही अस्पताल में विशेषज्ञ सुविधाओं का भी विस्तार होगा।



जयपुरिया अस्पताल में जांच सुविधाओं का शुरू होने से स्थानीय मरीजों को एसएमएस नहीं जाना पड़ेगा। इसका सबसे ज्यादा फायदा एसएमएस अस्पताल को ही होगा। एसएमएस अस्पताल में न सिर्फ मरीजों का दबाव कम होगा बल्कि यहां आने वाले मरीजों को चिकित्सक पूरा समय दे पाएंगे।


खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned