scriptआचार संहिता खत्म: चेन्नई ने फिर पकड़ी विकास की रफ्तार, बदलेगी सूरत | Patrika News
समाचार

आचार संहिता खत्म: चेन्नई ने फिर पकड़ी विकास की रफ्तार, बदलेगी सूरत

model code of conduct

चेन्नईJun 12, 2024 / 04:11 pm

PURUSHOTTAM REDDY

MCC

चेन्नई. लोकसभा चुनाव के बाद तमिलनाडु में 83 दिन बाद आचार संहिता हटा दी गई। इसके साथ ही अब चेन्नई में विकास कार्यों में तेजी लाने की कवायद शुरू हो गई है। अभी तक लोकसभा चुनाव के चलते जारी आदर्श आचार संहिता के कारण महानगर में विकास कार्य ठप पड़े हुए थे, लेकिन अब सडक़ों, नालों, पुलों और झीलों पर निर्माण व जीर्णोद्धार परियोजनाओं की झड़ी लग गई है।

टेंडर प्रक्रिया पर भी लगा हुआ था ब्रेक
चुनाव को चलते आदर्श आचार संहिता को लेकर 16 मार्च को अधिसूचना जारी की गई थी। इसके साथ ही विभागों द्वारा कराए जाने वाले नए कार्यों पर रोक लगा दी गई थी। मात्र पूर्व में चले आ रहे कार्य कराने की अनुमति दी गई। लोक निर्माण विभाग द्वारा सडक़ निर्माण, मरम्मत को लेकर होने वाली टेंडर प्रक्रिया पर भी ब्रेक लग गया था। इस दौरान विकास कार्यों की न तो समीक्षा हो पा रही थी और न ही नए कार्य शुरू हो पा रहे थे।
1250 सडक़ों की होगी मरम्मत
ग्रेटर चेन्नई कॉरपोरेशन (जीसीसी) चेन्नई की सीमा में क्षतिग्रस्त 1,250 सडक़ों की मरम्मत करने के लिए निविदाएं एवं ओएमआर में 738 करोड़ की तूफानी जल निकासी परियोजना के लिए कार्य आदेश जारी करेगा। मनली में कडापाक्कम झील को इको-पार्क में बदलने की तैयारी की जा रही है। महानगर के कई मोहल्ले में अनेक सड़कें जर्जर हालत में हैं। अधिकांश मोहल्लों में जल निकासी के लिए पर्याप्त सुविधा नहीं है। आचार संहिता के कारण यह काम रुका हुआ था जिसे अब गति मिल जाएगी।

250 करोड़ होंगे खर्च
नगर निगम के मुख्य अभियंता एस राजेंद्रन ने बताया कि नागरपुरा सालै मेमपट्टुतिट्टम (एनएसएमटी) और तमिलनाडु शहरी सडक़ अवसंरचना परियोजना (टीयूआरआईपी) योजना के तहत 250 करोड़ की लागत वाली सडक़ों के लिए निविदाएं जारी की जाएंगी, जिनका काम 15 जून तक शुरू हो जाएगा। योजनाबद्ध सडक़ निर्माण कार्य में 36 बस मार्ग सडक़ें और 1,200 आंतरिक सडक़ें शामिल हैं। इनमें से तंडियारपेट में 153 सडक़ों का निर्माण किया जाएगा, जबकि अन्ना नगर में 133, वलसरवाक्कम में 111 व अडयार में 108 सडक़ों का निर्माण होगा।

यहां की भी बदलेगी सूरत
केएफडब्ल्यू जर्मन बैंक द्वारा वित्तपोषित ओएमआर स्टॉर्म वाटर ड्रेन परियोजनाओं के लिए कार्य आदेश जारी किए जाएंगे। ओएमआर ड्रेन का काम कोवलम बेसिन स्टॉर्म वाटर ड्रेन परियोजना का तीसरा चरण है। उत्तर चेन्नई में मनली में 55 हेक्टेयर की कडापाक्कम झील को बहाल करने और इसे इको-पार्क में बदलने के लिए निविदाएं जारी की गई हैं।

इन कार्यों पर होगा निगम का ध्यान
जीसीसी आयुक्त जे. राधाकृष्णन ने अधिकारियों को लंबित निविदा प्रक्रियाओं में तेजी लाने, आवश्यक कार्य आदेशों की समीक्षा करने और रुकी हुई परियोजनाओं में तेजी लाने का निर्देश दिया है। उन्होंने कहा, मैंने पुल विभाग को वल्लुवरकोट्टम सहित आगामी पुलों की समीक्षा करने का भी निर्देश दिया है। इसके अलावा जीसीसी जल्द ही मवेशियों की जनगणना और पार्किंग प्रबंधन के लिए निविदाएं जारी करने का प्रस्ताव पारित करेगी।

model code of conduct

Hindi News/ News Bulletin / आचार संहिता खत्म: चेन्नई ने फिर पकड़ी विकास की रफ्तार, बदलेगी सूरत

ट्रेंडिंग वीडियो