32 साल बाद पकड़े गए इस गैंगस्टर ने किए संगीन जुर्म लेकिन बेटे व बेटी को बनाया सीए , पढ़ें पूरी खबर

Ajmer, Rajasthan, India
32 साल बाद पकड़े गए इस गैंगस्टर ने किए संगीन जुर्म लेकिन बेटे व बेटी को बनाया सीए , पढ़ें पूरी खबर

पुलिस थाना श्रीनगर में प्रोडक्षन वारंट के जरिये 32 वर्षो से फरारी काट रहे हत्या सहित संगीन मामलों के गिरफ्तार आरोपित अजय शर्मा ने अपनी फरारी के दौरान एक बेटा व एक बेटी को जन्म देकर सीए कराकर लायक बनाया।

पुलिस थाना श्रीनगर में प्रोडक्षन वारंट के जरिये 32 वर्षो से फरारी काट रहे हत्या सहित संगीन मामलों के गिरफ्तार आरोपित अजय शर्मा ने अपनी फरारी के दौरान एक बेटा व एक बेटी को जन्म देकर सीए कराकर लायक बनाया। 


आरोपित अजय शर्मा ने 32 वर्षो पूर्व 1985 में खान ब्यूरो में कार्यरत कर्मचारी दिनेश शर्मा की हत्या की थी। गिरफ्तारी के दौरान आरोपित अजय ने पुलिस थाना श्रीनगर मे बताया कि उसने राजकीय महाविद्यालय से बीकॉम व एमए इकोनोमिक्स में की थी उसके बाद उसने चित्तौडग़ढ एक कम्पनी में करीब तीन माह तक कार्य किया ओर प्रेम विवाह कर लिया। 


अजय की मुलाकात सुरेन्द्र से हो गई। सुरेन्द्र कुख्यात आरोपित सूरज भाम्बी का दोस्त था जोकि उनकी गैग का बोस हुआ करता है। 1985 में करीब 15 माह के समय में उसने अपने गैग के गुर्गो के साथ मिलकर अपराध किये। दिनेश जिसकी हत्या की गई उसे वह जानता भी नहीं था। दिनेश सूरज का दोस्त हुआ करता था। 


शम्भू पहलवान का मृदंग सिनेमा के पास दिनेश का झगड़ा हो गया। सूरज सुरेन्द्र व अजय शर्मा ने गाडी में बैठाकर दिनेश को श्रीनगर रोड़ की ओर लेकर आये ओर श्रीनगर घाटी में पंखे वाले कुऐं पास चाकूओं से गोदकर व गाडी चढ़ाकर हत्या कर दी। 


हत्या के बाद तीनों ही आरोपित फरार हो गये। पुलिस थाने में अज्ञात का मुकदमा दर्ज भी हुआ ओर पुलिस उस समय आरोपित तक नहीं पहुंच पाई।


चााय के कारण की थी हत्या

श्रीनगर। पुलिस द्वारा पूछताछ करने के दौरान कुख्यात आरोपित अजय शर्मा ने बताया मांगलियावास में एक चााय के कारण एक व्यक्ति की हत्या कर दी गई। अजय सुरेन्द्र व सूरज तीनों साथ में मांगलियावास एक ढाबे में चाय पीने रूके। ढाबे से एक बच्चा चाय लेकर आया, चाय में कैरोसिन की बदबू आने पर सूरज ने बच्चे व ढाबे के मालिक के साथ गाली गलौच की आरे ढाबा मालिक से चाय के पैसे को लेकर गाली गलौच के दौरान ही अपने बोस की बात रखने के कारण सुरेन्द्र द्वारा ढाबे मालिक की रिवाल्वर से हत्या कर दी। 


32 वर्षो में रहे 32 थानेदार लेकिन अजय को नहीं पकड़ पाये कोई


श्रीनगर। पुलिस थाना श्रीनगर क्षेत्र में 1985 में थानेदार हनुमंत सिंह थे जिस दौरान दिनेश शर्मा की हत्या की गई। उसके बाद श्रीनगर थाने में 32 थानेदार रहने के बावजूद आरोपित अजय शर्मा को कोई गिरफ्तार नहीं कर पाये। 



पिता के अपराधों के बारें में बच्चों को नहीं था मालूम

श्रीनगर। हत्या के आरोपित अजय शर्मा के बच्चों को अपने पिता द्वारा किये गये अपराधों के बारे में कोई जानकारी नहीं थी। अजय शर्मा ने फरारी के 21 वर्षो के दौरान ही एक बच्चा व एक बच्ची हुई जिन्हे उसने व उसकी पत्नि ने अच्छी शिक्षा दी ओर बच्चा सीए बनकर एक दिल्ली में अच्छी कम्पनी में कार्य कर रहा है इसी प्रकार बिटिया भी सीए कर रही है ओर स्वयं अजय भी ट्यूशन करता था। 


अजय की प्रारम्भिक शिक्षा सेंट एन्सलेम में इंगलिश मीडियम की रही है। अजय ने हत्या की घटना व प्रेम विवाह के बाद परिवार से रिश्ता नहीं रखा उसे तो यह भी मालूम नहीं था कि उसके माता-पिता कब मरे। 

बेटे ने कराया पिता को सरेन्डर

श्रीनगर। अजय शर्मा के पुत्र अमित शर्मा को दिल्ली में पुलिस के आने के बाद अपने पिता के अपराध के बारे में जानकारी हुई। बेटे अमित ने पिता से कहा कि भागने के बजाय भोगने से पीछा छुटेगा ओर आखिरकार अजय अपने बेटे अमित के साथ आकर न्यायालय में सरेन्डर हो गया।


Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned