ध्यान से पढ़ें , सबके काम की है यह खबर कहीं आपके भी मोबाइल बंद ना हो जाएं आधार नम्बर के बिना

Ajmer, Rajasthan, India
ध्यान से पढ़ें , सबके काम की है यह खबर कहीं आपके भी मोबाइल बंद ना हो जाएं आधार नम्बर के बिना

मोबाइल में लगने वाला सिम कार्ड अब आधार कार्ड से जोड़ा जाएगा। केन्द्र सरकार के आदेश आने के बाद भारत संचार निगम ने इस पर कवायद शुरू कर दी है। बीएसएनएल के साथ दूसरी मोबाइल कंपनियों को भी इसके आदेश जारी किए गए हैं।

 मोबाइल में लगने वाला सिम कार्ड अब आधार कार्ड से जोड़ा जाएगा। केन्द्र सरकार के आदेश आने के बाद भारत संचार निगम ने इस पर कवायद शुरू कर दी है। बीएसएनएल के साथ दूसरी मोबाइल कंपनियों को भी इसके आदेश जारी किए गए हैं। उपभोक्ताओं को मोबाइल कंपनियां एसएमएस के जरिए आधार कार्ड जमा कराने के साथ सिम कार्ड को उससे लिंक कराने के लिए कह रही हैं।


 आगामी 6 फरवरी इसकी अंतिम तिथि रखी गई है। 6 फरवरी की देर रात आधार कार्ड से सिम को नहीं जुड़वाने वाले उपभोक्ता की सिम स्वत: ही ब्लैक लिस्ट में चली जाएगी। कुछ समय पूर्व केन्द्र सरकार ने निजी कंपनी से सर्वे कराया था। सर्वे में पता चला कि कई सिम कार्ड फर्जी नाम से चल रहे हैं। जिनके नाम सिम कार्ड जारी हो रखे हैं उन्हें पता ही नहीं है कि उनके नाम से दूसरों ने सिम ले रखी है। इसी फर्जीवाड़े पर अंकुश लगाने के लिए केन्द्र सरकार ने सिम कार्ड को आधार से जोड़े जाने के निर्देश जारी किए हैं।


बैंक सहित दूसरी मिलेगी जानकारी

केन्द्र बैंक खाता सहित दूसरी जानकारियों को आधार से जोड़ रही है। इसी कारण सिम कार्ड जुड़ते ही इसका पूरा डाटा भी सरकार के पास आ जाएगा कि किसने कब कहां बात की। इतना ही नहीं किसी भी कंपनी की सिम लेने पर कार्ड की डिजिट डालते ही जानकारी मिल जाएगी कि पहले सिम कार्ड कितने जारी हो रखे हैं या नहीं।


एक आधार से 9 सिम कार्ड

बीएसएनएल के अधिकारियों का कहना है कि एक आधार कार्ड से एक उपभोक्ता को अधिकतम 9 सिम कार्ड जारी किए जा सकते हैं। लेकिन इतने सिम कार्ड लेने के पीछे क्या कारण है। इसकी जानकारी उन्हें देनी होगी। इसी के बाद कार्ड जारी होंगे।


आधार की डिजिट जुड़ेगी सिम से

केन्द्र सरकार ने देशभर में जितने भी मोबाइल उपभोक्ता हैं उन सभी के आधार कार्ड की डिजिट लिए जाने के निर्देश दिए हैं। इन आधार कार्ड को विशेष पासवर्ड मिलेंगे। इन पासवर्ड से पता चल सकेगा कि किनके नाम सही मायनों में सिम कार्ड जारी हो रखे हैं। एक क्लिक करते ही देश में जांच एजेंसी पता कर सकेगी कि सही व्यक्ति के नाम सिम जारी हो रखी है या नहीं।


फार्म भरने की नहीं पड़ेगी जरूरत

पूरी प्रक्रिया को ऑनलाइन रखा जाएगा। इसमें फार्म भरने की जरूरत नहीं पड़ेगी। उपभोक्ता स्वयं आकर आधार को ऑनलाइन कराएगा। इसमें डेटा बेस, नाम पता अन्य जानकारियां इंद्राज होंगी।


कंपनी एसएमएस से करेगी पूछताछ

6 दिसम्बर के बाद आधार कार्ड से जुड़ चुके उपभोक्ता से जानकारी हासिल की जाएगी कि उनके नाम सिम है या नहीं। सिम कार्ड के नम्बर भी पूछे जाएंगे इससे फर्जीवाड़े पर अंकुश लग सकेगा।


लोकेशन होगी टे्रस...

निगम के अधिकारियों का कहना है कि आधार से जुडऩे के बाद पता चल सकेगा कि किस आधार से जारी कौनसी सिम कहां पर चल रही है। जबकि आधार मालिक कहां पर रह रहा है। वहीं सिम का उपयोग मोबाइल के अलावा कहां किया गया है। इसका भी पता चल सकेगा।


बीएसएनएल व निजी मोबाइल कंपनियों को केन्द्र सरकार ने उनके मोबाइल धारकों के नम्बर आधार कार्ड से लिंक करने के निर्देश दिए हैं। 6 फरवरी अंतिम तिथि है। इसके बाद आधार नहीं जुड़वाने वाले उपभोक्ता का सिम कार्ड ब्लॉक हो जाएगा।


-सुनील कुमार बोहरा, सीएमडीएस मोबाइल, बीएसएनएल अजमेर/p>


Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned