ये हैं आज के श्रेष्ठ योग, जानिए सफलता के लिए किस मुहूर्त में करें शुभ कार्य प्रारंभ

Astrology and Spirituality
ये हैं आज के श्रेष्ठ योग, जानिए सफलता के लिए किस मुहूर्त में करें शुभ कार्य प्रारंभ

आयुष्मान नामक योग दोपहर बाद 1.41 तक, तदन्तर सौभाग्य नामक योग है। दोनों ही नैसर्गिक शुभ योग हैं।

आज 7 मार्च 2017,  मंगलवार है। शुभ विक्रम संवत् : 2073, संवत्सर का नाम : सौम्य, शाके संवत् : 1938, हिजरी सन् : 1438, अयन : उत्तरायण, ऋतु : बसन्त, मास : फाल्गुन, पक्ष - शुक्ल है।




तिथि 

दशमी पूर्णा संज्ञक शुभ तिथि रात्रि 12.18 तक, तदन्तर एकादशी नंदा संज्ञक तिथि प्रारम्भ हो जाएगी। दशमी व एकादशी में समस्त शुभ व मंगलिक कार्य शुभ रहते हैं। पर अभी होलाष्ट में विवाहादि मांगलिक कार्य वर्जित हैं। 




नक्षत्र

आर्द्रा नक्षत्र सायं 6.36 तक, तदुपरान्त पुनर्वसु नक्षत्र है। आर्द्रा नक्षत्र में कलह, विवाद, बंधन, छेदन आदि दूषित कार्य और जनेऊ व विद्यादि कार्य शुभ व सिद्ध होते हैं। पुनर्वसु नक्षत्र में शांतिक व पुष्टता आदि विषयक कार्य शुभ रहते हैं। 




योग

आयुष्मान नामक योग दोपहर बाद 1.41 तक, तदन्तर सौभाग्य नामक योग है। दोनों ही नैसर्गिक शुभ योग हैं। 




विशिष्ट योग

दोष समूह नाशक रवियोग नामक शक्तिशाली शुभ योग सम्पूर्ण दिवारात्रि, सूर्योदय से सायं 6.36 तक यमघंट नामक अशुभ योग, तदुपरान्त कुमार योग रहेगा। 




करण

तैतिल नामकरण दोपहर बाद 1.08 तक, तदन्तर गरादि करण रहेंगे।




शुभ मुहूर्त 

उपर्युक्त शुभाशुभ समय, तिथि, वार, नक्षत्र व योगानुसार आज सामवेदियों के लिए आर्द्रा नक्षत्र में उपनयन का शुभ मुहूर्त है।




व्रतोत्सव

आज नन्दगांव होली, फागुदशमी (उड़ीसा में) तथा पं. गोविन्दबल्लभ पंत पुण्य दिवस है। 




दिशाशूल

मंगलवार को उत्तर दिशा की यात्रा में दिशाशूल रहता है। चन्द्र स्थिति के अनुसार आज पश्चिम दिशा की यात्रा लाभदायक व शुभप्रद है। 




चन्द्रमा

चन्द्रमा सम्पूर्ण दिवारात्रि मिथुन राशि में रहेगा। राहुकाल: अपराह्न 3.00 से सायं 4.30 तक राहुकाल वेला में शुभकार्यारंभ यथासम्भव वर्जित रखना हितकर है।




Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned