2016 में झीलों की नगरी में मच्छरों का रहा आतंक, लोढ़ी काशी में मचाया कोहराम !

Banswara, Rajasthan, India
 2016 में झीलों की नगरी में मच्छरों का रहा आतंक, लोढ़ी काशी में मचाया कोहराम !

मलेरिया और डेंगू जैसी बीमारियों से लोग रहे परेशान, सरकारी आंकड़ों के हिसाब से उदयपुर में प्रदेश में सबसे ज्यादा रोगी बांसवाड़ा तीसरे नंबर पर

वर्ष 2016 उदयपुर संभाग में मच्छरों ने अच्छा खासा आतंक मचाया। जिसके परिणाम स्वरूप मलेरिया के सबसे ज्यादा रोगी उदयपुर में पाए गए। वहीं, दूसरे नंबर पर प्रतापगढ़ और तीसरे नंबर पर बांसवाड़ा जिले में मलेरिया पीडि़तों की शिनाख्त हुई।


दरअसल पिछले दिनों उच्चस्तरीय बैठक में विभाग की ओर से आंकड़े प्रस्तुत किए गए। जिसके बाद चौकानें वाले खुलासे हुए। बैठक में प्रस्तुत किए गए आंकड़ों के आधार पर उदयपुर संभाग में सबसे ज्यादा मलेरिया पीवी से पीडि़त रोगियों की शिनाख्त हुई। एक वर्ष में उदयपुर में (1015), भरतपुर में 893 तथा बांसवाड़ा में 588 केसेज रहे हैं।


मलेरिया पीएफ केसेज प्रतापगढ़ में सबसे ज्यादा


इस वर्ष सबसे ज्यादा मलेरिया प्रभावित जिलों में पीएफ  केसेज प्रतापगढ़ में 411 तथा उदयपुर में 155 , बारां  में 60 , तथा कोटा में 59 पाए गए। वहीं, पीवी मलेरिया के उदयपुर में 1015, भरतपुर में 893 तथा बांसवाड़ा में 588 केसेज
रहे हैं। पिछले माह के 1064 कैसेज के विरूद्ध इस माह 288 मलेरिया के केसेज प्रदेशभर में दर्ज किए गए। आपको बताते चलें कि पूरे प्रदेश में मलेरिया की जांच के लिए 93 लाख 43 हजार 958 लोगों की खून के सैंपल लिए गए।


यह बैठक राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन निदेशक नवीन जैन की अध्यक्षता में हुई।  समीक्षा बैठक में निदेशक आईईसी बीएल कोठारी, संयुक्त शासन सचिव एनएचएम त्रिभुवनपति, निदेशक आरसीएच डॉ. वीके माथुर, एसपीएम एनएचएम, डॉ.जलज विजय, संबंधित राज्य नोडल अधिकारी एवं जिला उप मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, आईडीएसपी कंसलटेंट एवं संबंधित अधिकारीगण मौजूद थे।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned