भगवत गीता को जीवन में करें आत्मसात, हल्दी घाटी चेतना यात्री भरतपुर पहुंची

rohit sharma

Publish: Jun, 19 2017 11:33:00 (IST)

Bharatpur, Rajasthan, India
भगवत गीता को जीवन में करें आत्मसात, हल्दी घाटी चेतना यात्री भरतपुर पहुंची

भारतीय चरित्र निर्माण संस्था की ओर से आयोजित हल्दी घाटी चेतना यात्रा अलवर से भरतपुर पहुंची। जिले की सीमा पर यात्रा का स्वागत किया गया।

भारतीय चरित्र निर्माण संस्था की ओर से आयोजित हल्दी घाटी चेतना यात्रा अलवर से भरतपुर पहुंची। जिले की सीमा पर यात्रा का स्वागत किया गया। 


इस मौके पर जिला पुलिस अधीक्षक कार्यालय सभागार में संगोष्ठी का आयोजन हुआ। इसमें मुख्य वक्ता संस्थान के संस्थापक अध्यक्ष रामकृष्ण गोस्वामी थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता महेन्द्र सिंह मग्गो ने की। विशिष्ठ अतिथि अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (एडीएफ) सतीशचंद जांगिड़ व सीओ (शहर) आवड़दान रत्नू थे।


संगोष्ठी में मुख्य वक्ता गोस्वामी ने गीता को अपने जीवन में आत्मसात करने का आह्वान किया। उन्होंने पुलिसकर्मियों से कहा कि भगवत गीता कुशलतापूर्ण तरीके से कत्र्तव्य कम करने की सीख देता है। गोस्वामी ने कहा कि मनुष्य का जीवन शरीर, इन्द्री, मन, बुद्धि और आत्मा में विभाजित है।


मनुष्य को इन पर काबू पाना चाहिए। इससे पहले जिला संयोजक सुदेश शर्मा ने बताया कि संस्थान के नेतृत्व में हल्दीघाटी चेतना यात्रा अलवर से चलकर भरतपुर, जयपुर, अजमेर, रामसमन्द, उदयपुर से चलकर चित्तौडग़ढ़ हल्दीघाटी में गत 21 जून को समापन होगा।


यात्रा का लक्ष्य मानव अधिकारों की रक्षा, विश्व शांति, सद्भावना, राष्ट्रीय सुरक्षा व सम्मान, सामाजिक न्याय और विकास परिवार कल्याण में सहयोग दें। उन्होंने कहा कि गीता में कर्म विज्ञान, आत्मज्ञान, न्याय सिद्धान्त और शासन नीति की वैज्ञानिक शिक्षा है। महाराणा प्रताप हल्दीघाटी के कुरूक्षेत्र को धर्मक्षेत्र में बदलने का कार्य किया।


इससे पहले यात्रा का भरतपुर सीमा पर संस्थान के जिला संयोजक शर्मा, डॉ. अशोक सिंह, नरेन्द्र सिंह, अनिल गुप्ता आदि ने स्वागत किया। कार्यक्रम में थाना प्रभारी वीरेन्द्र शर्मा, मुरारीलाल मीना, अमर सिंह, पिंटू, रवीन्द्र सिंह, अनिल डोरिया, पूर्व सैनिक सेवा परिषद के नरेन्द्र सिंह, बाल कल्याण समिति सदस्य सुंदर सिंह, चक्रवती शर्मा सहित अन्य मौजूद  थे।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned