मास्टर प्लान, कब्जों से कब मुक्त होंगे जल प्रवाह मार्ग

rajesh khandelwal

Publish: Jun, 18 2017 11:42:00 (IST)

Bharatpur, Rajasthan, India
मास्टर प्लान, कब्जों से कब मुक्त होंगे जल प्रवाह मार्ग

जल निकासी से त्रस्त भरतपुर शहर में बाजार, आवासीय कालोनियों से लेकर तमाम क्षेत्र उन जलप्रवाह मार्गों का शिकार हो रहा है, जो कहीं न कहीं अतिक्रमण और अवैध निर्माण के कारण बाधित हो रहे हैं।

जल निकासी से त्रस्त भरतपुर शहर में बाजार, आवासीय कालोनियों से लेकर तमाम क्षेत्र उन जलप्रवाह मार्गों का शिकार हो रहा है, जो कहीं न कहीं अतिक्रमण और अवैध निर्माण के कारण बाधित हो रहे हैं।


शहर तक पानी लाने तथा अतिरिक्त पानी की निकासी के लिए रियासतकालीन शहर के चारों ओर कच्ची खाई बनाई गई तथा भूूमिगत नाले भी। शहर नदियों के बहाव क्षेत्र में बसा होने के कारण पानी निकासी के कई चैनल भी थे। बीते तीन दशक में यह नाले अतिक्रमणों की भेंट चढ़ चुके हैं।


चैनल अब दिखते ही नहीं


शहर की सर्कुलर रोड के बाहरी क्षेत्र में बनी कॉलोनियां तो पानी भरने के कारण बदनामी झेलती हैं। काली की बगीची के आसपास बसा क्षेत्र, तिलक नगर, जसवंत नगर, इंद्रा कॉलोनी आदि क्षेत्र में जल निकासी का सरल और निर्बाध मार्ग नहीं होने के कारण थोड़ी सी बारिश में भारी मात्रा में पानी भर जाता है।


सुभाषनगर कॉलोनी, ईदगाह कॉलोनी, नवीन मंडी यार्ड क्षेत्र में पानी भरने का आलम ऐसा है कि यहां पम्पसैट लगाकर पानी को मुखर्जी नगर की तरफ छोड़ा जाता है, जिससे इस क्षेत्र में जल प्लावन की समस्या गंभीर रूप ले लेती है।


सिकुड़ रही रणजीतनगर कैनाल


मोती झील बांंध से छोड़े जाने वाले पानी से शहर को बचाने के लिए बनी रणजीत नगर कैनाल साल-दर-साल सिकुड़ती जा रही है। इस कैनाल की चौड़ाई रणजीतनगर कॉलोनी से लेकर जघीना गेट के पास तक न केवल कम कर दी गई है, बल्कि इस पर कब्जे भी खूब किए जा चुके हैं।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned