GST देगा उद्योगों के साथ आम लोगों को रफ्तार, बढ़ेंगे रोजगार के अवसर, ये होगा सस्ता-महंगा

Abhishek Pareek

Publish: May, 20 2017 09:27:00 (IST)

Business
GST देगा उद्योगों के साथ आम लोगों को रफ्तार, बढ़ेंगे रोजगार के अवसर, ये होगा सस्ता-महंगा

वस्तु एवं सेवाकर (जीएसटी) के तहत विभिन्न वस्तुओं और सर्विसेज पर टैक्स दर को लेकर पटाक्षेप हो गया है। ज्यादार जरूरी वस्तुओं पर टैक्स की दरें पहले से चली आ रही दर के आस-पास ही रखने की कोशिश की गई है।

वस्तु एवं सेवाकर (जीएसटी) के तहत विभिन्न वस्तुओं और सर्विसेज पर टैक्स दर को लेकर पटाक्षेप हो गया है। वित्त मंत्री की अगुवाई में श्रीनगर में चले दो दिनों की बैठक मेेंं ज्यादार जरूरी वस्तुओं पर टैक्स की दरें पहले से चली आ रही दर के आस-पास ही रखने की कोशिश की गई है। ऐसा कर सरकार महंगाई बढऩे की आशंका को खारिज करना चाहती है।




विशेषज्ञों के मुताबिक जीएसटी काउंसिल ने प्रमुख वस्तुओं पर कम टैक्स या टैक्स छूट देकर यह साफ करने की कोशिश की है कि सरकार सभी वर्ग का ख्याल रख रही है। हालांकि, लग्जरी होटल्स रूम और ऑटोमोबाइल सेक्टर में टैक्स दर बदलाव से महंगे होटल में ठहरना व गाड़ी खरीदने के लिए अधिक कीमत चुकानी पड़ सकती है। आइए जानते हैं 1 जुलाई से जीएसटी लागू हो पर आम आदमी से लेकर उद्योग जगत पर क्या होगा अच्छा-बुरा...



किसको क्या फायदा 

उपभोक्ता-  टैक्स दर घटने से सामान की कीमत कम होगी। अभी सामान पर कुल मिलाकर 31त्न  तक टैक्स लगता है। ऐसे में घर का खर्च कम होगा और रोजगार के अवसर बढ़ेंगेे। 

बिजनेसमैन-  टैक्स प्रॉसेस पारदर्शी होगा।  देश एक मार्केट बन जाएगा। कारोबारियों को पहले चुकाए टैक्स का इनपुट क्रेडिट मिलेगा। इससे बिजनेस करना आसान होगा। 

सरकार- टैक्स बेस बढऩे से केंद्र और राज्यों का रेवेन्यू बढ़ेगा। 

अर्थव्यवस्था- टैक्स कम होने से भारत में बनी वस्तुओं की कीमत दूसरे देशों में प्रतिस्पद्र्धी होंगे। इसका फायदा निर्यात में मिलेगा। निवेश का माहौल बेहतर होने से एफडीआई आएगा। इससे अर्थव्यवस्था को बूस्ट मिलेगा जिससे देश की जीडीपी में वृद्धि होगी।




टीवी, रेफ्रिजरेटर और एसी महंगे

जीएसटी लागू होने पर रेफ्रिजरेटर और एयर-कंडीशनर के दाम 4 से 5 प्रतिशत बढ़ सकते हैं। जीएसटी काउंसिल ने कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक्स और ड्यूरेबल्स को 28 प्रतिशत टैक्स स्लैब में रखा है, जबकि वर्तमान में इस पर लगभग 23 प्रतिशत टैक्स लगता है।




जरूरी सामान होंगेे सस्ते 

पीडब्ल्यूसी के कर विशेषज्ञ प्रतीक जैन ने कहा कि कई उपभोक्ता सामान मसलन- साबुन, टूथपेस्ट और केश तेल 18 प्रतिशत कर स्लैब में हैं। इससे इन उत्पादों के दाम घटेंगे। इसके अलावा, कई खाद्य वस्तुओं मसलन खाद्य तेल, चाय, कॉफी और चीनी को पांच प्रतिशत कर के दायरे में रखा गया है। एफएमसीजी कंपनी डाबर और इमामी ने जीएसटी दरों का स्वागत करते हुए कहा कि यह लाभकारी है लेकिन इसके पूर्ण प्रभाव को देखने के लिए और स्पष्टता की जरूरत है।




जीवन बीमा खरीदना होगा महंगा

अभी तक बैंकिंग, इन्श्योरेंस समेत फाइनेंशियल सर्विसेज पर 15 फीसदी सर्विस टैक्स था। जीएसटी में टैक्स रेट 18 फीसदी होने से ये सर्विसेज महंगी हो जाएंगी। यानी, बीमा खरीदना या बैंकिंग सेवा का लाभ लेने के लिए आपको 1 जुलाई से ज्यादा रकम खर्च करना होगा। वहीं, जीएसटी के दायरे से  एजुकेशन और हेल्थकेयर को बाहर रखा गया है।




पान मसाला पर सबसे ज्यादा सेस लगेगा  

जीएसटी में सबसे ज्यादा सेस 204 फीसदी पान मसाला पर लिया जाएगा। इसके अलावा, कोल्ड ड्रिंक्स पर 12 फीसदी और बड़ी कारों पर 15 फीसदी तक सेस लगेगा।  



बिजली होगी सस्ती

कोयले पर अभी 11.69  फीसदी टैक्स लगता है। लेकिन, जीएसटी आने पर यह टैक्स सिर्फ 5 फीसदी लगेगा। इससे  कई राज्यों में बिजली का टैरिफ कम होने की उम्मीद है। 



नहीं बढ़ेगी महंगाई 

क्रिसिल के चीफ इकोनॉमिस्ट डीके जोशी के अनुसार अब तक जिन वस्तुओं के टैक्स के रेट सामने आए हैं उससे लगता है कि जीसटी लागू होने से देश में महंगाई नहीं बढ़ेगी।



कार-बाइक पर भी सेस 

सेस के दायरे में छोटी कार से लेकर महंगे याट तक शामिल हैं। सबसे कम सेस चार मीटर से छोटी और 1200 सीसी से कम की कारों पर 1 फीसदी लगाया जाएगा। जबकि बड़ी कारों (1500 सीसी से ज्यादा) पर 15 फीसदी सेस लगेगा। वहीं, 350 सीसी से वाली बाइक्स पर 3 फीसदी सेस देना होगा।



कारों की कीमतें बढ़ेंगी 

टैक्स सेवा देने वाली कंपनी टैक्समैन.कॉम के सीनियर कंसलटेंट विनायक डाते ने बताया कि जीएसटी लागू होने से सबसे ज्यादा नुकसान ऑटोमोबाइल सेक्टर को उठाना होगा। छोटी गाडिय़ों पर टैक्स बढ़ाने से उसकी कीमत बढऩी तय है। ऐसे में इसका असर इस सेक्टर पर पडऩा तय लग रहा है।



बड़े उद्योगों को फायदा 

- जीएसटी लागू होने से बड़े उद्योगों को बड़ा फायदा मिलना तय है। ऐसा इसलिए है कि उनका कारोबार कई राज्यों में फैला है। एक टैक्स दर से उनके ऊपर बोझ कम होगा और काम करना आसान होगा। 



ये कारें होंगी सस्ती

नए टैक्स रेट का सबसे ज्यादा फायदा एसयूवी, सेडान और लग्जरी कारें खरीदने वाले कस्टमर्स को मिल सकता है। 



ये कारें हो सकती हैं महंगी

टैक्स रेट बढऩे से कीमतें बढ़ाती हैं तो इसकी वजह से ऑल्टो, क्विड, स्विफ्ट, टिआगो और इऑन जैसी कारों की कीमतें बढ़ सकती हैं। बीएमडब्ल्यू, ऑडी, मसर्डिज जैसी कारें सस्ती होंगी। 



उपभोक्ता होगा किंग 

- यह कदम बड़े पैमाने पर ग्राहकों को लाभ पहुंचाएगा, क्योंकि उन्हें कम भुगतान करना होगा। माल के मुक्त आवागमन से वस्तुओं की आपूर्ति सुनिश्चित होगी और उनके दामों को नियंत्रित रखने में मदद मिलेगी।

रामविलास पासवान, खाद्य एवं उपभोक्ता मामलों के मंत्री।


Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned