अमरीका का दावा: भारत बना रहा चीन को तबाह करने की मिसाइल

rajesh walia

Publish: Jul, 13 2017 02:14:00 (IST)

National News
अमरीका का दावा:  भारत बना रहा चीन को तबाह करने की मिसाइल

भारत पाकिस्तान को नहीं चीन को ध्यान में रखकर ऐसा परमाणु हथियार बना रहा है जिससे एक ही झटके में पूरा चीन तबाह हो जाएगा। अमरीका परमाणु विशेषज्ञों का कहना है । भारत इन दिनों अपने परमाणु हथियारों को लगातार बढ़ोतरी और आधुनिक कर रहा है। ये भारत चीन के लिए कर रहा है।

चीन और पाकिस्तान के साथ भारत  लगातार सीमा विवाद झेल रहा है। अपने न्यूक्लियर सिस्टम को आधुनिक करने के लिए भारत तेजी से बढ़ रहा है। अमरीका के दो बड़े न्यूक्लियर विशेषज्ञों का कहना है कि भारत अपने न्यूक्लियर सिस्टम को इस कदर आधुनिक कर रहा है, जिससे पूरे चीन को निशाना बनाया जा सकता है।
दोनों विशेषज्ञों का आर्टिकल अमरीका  के डिजिटल जर्नल में छपा है, जिसमें बताया गया है कि भारत के पास करीब 600 किलोग्राम वेपन्स-ग्रेड का प्लूटोनियम है। हालांकि, इसमें से सिर्फ 150 से 200 किलो प्लूटोनियम न्यूक्लियर वेपन्स के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है।



kashmir-two-army-personnel-who-were-shot-by-terrorists-in-kupwara-2625806.html">जम्मू-कश्मीर: पाक ने फिर किया सीजफायर का उल्लंधन, कुपवाड़ा में सेना के 2 जवान शहीद




दोनों विशेषज्ञों का दावा है कि आमतौर पर पाकिस्तान पर केंद्रित रहने वाली भारतीय परमाणु नीति अब चीन की तरफ ज्यादा जोर देती नजर आ रही है। उनका कहना है, "वैसे, भारत परंपरागत रूप से पाकिस्तान को रोकने पर ध्यान केंद्रित करता रहा है, लेकिन परमाणु हथियारों का आधुनिकीकरण  ये  बता रहा है कि वह अब चीन के साथ भविष्य में होने वाले रणनीतिक ताल्लुकात पर ज्यादा जोर दे रहा है। इन लोगों का दावा है कि भारत लगातार अपने परमाणु हथियारों के आधुनिकरण में जुटा है  और उसने कई नए परमाणु हथियार सिस्टम विकसित कर लिए हैं, विशेषज्ञों का कहना है की भारत के पास इस वक्त सात परमाणु-सक्षम सिस्टम मौजूद हैं, जिनमें दो विमान, चार ज़मीन पर मौजूद बैलिस्टिक मिसाइलें और एक समुद्र में स्थित बैलिस्टिक मिसाइल शामिल है।



नोटबंदी: पुराने नोटों पर बोले RBI गवर्नर, कहा- जमा हुए नोटों की गिनती अभी भी जारी




आलेख के मुताबिक भारत इस वक्त कम से कम 4 सिस्टम और विकसित कर रहा है। यह कार्यक्रम भी डायमनिक स्टेज तक पहुंच चुका है, और लम्बी दूरी की ज़मीन और समुद्र से मार करने में सक्षम मिसाइलों को संभवत अगले एक दशक के भीतर तैनात किया जा सकेगा।


विशेषज्ञों ने आलेख में दावा किया है कि भारत ने अनुमानतः लगभग 600 किलोग्राम वेपन-ग्रेड (हथियारों में इस्तेमाल किया जाने वाला) प्लूटोनियम तैयार कर लिया है, जो 150-200 नाभिकीय हथियार बनाने के लिए पर्याप्त है, लेकिन सारे प्लूटोनियम को हथियारों में तब्दील नहीं किया गया है

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned