दिल्ली MCD चुनाव: हाईकोर्ट ने VVPAT इस्तेमाल करने की आप की मांग ठुकराई

National News
दिल्ली MCD चुनाव: हाईकोर्ट ने VVPAT इस्तेमाल करने की आप की मांग ठुकराई

अदालत ने कहा कि न तो हम मतदान पर रोक लगा सकते हैं और न ही उन ईवीएम मशीनों के उपयोग का आदेश जारी कर सकते हैं।

दिल्ली उच्च न्यायालय ने मंगलवार को आम आदमी पार्टी की उस मांग को खारिज कर दिया, जिसमें आप ने आगामी दिल्ली नगर निगम चुनाव में दूसरी पीढ़ी की इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों के साथ वीवीपीएटी तकनीक के इस्तेमाल की मांग की थी।



न्यायमूर्ति ए. के. पाठक ने आप की मांग ठुकराते हुए कहा कि चुनाव से ठीक पहले आखिरी समय में अब कुछ नहीं किया जा सकता। उच्च न्यायालय ने हालांकि इस संबंध में भारत निर्वाचन आयोग और दिल्ली राज्य निर्वाचन आयोग से शुक्रवार तक जवाब देने के लिए कहा है। मामले पर अगली सुनवाई शुक्रवार को ही होगी।


VIDEO: सुप्रीम कोर्ट के आदेश का हो रहा खिलवाड़, यहां ट्रक में भरकर हाईवे पर बेची जा रही शराब


अदालत ने कहा कि न तो हम मतदान पर रोक लगा सकते हैं और न ही उन ईवीएम मशीनों के उपयोग का आदेश जारी कर सकते हैं, जो यहां हैं ही नहीं। गौरतलब है कि आप के प्रत्याशी मोहम्मद ताहिर हुसैन ने मंगलवार को 23 अप्रैल को होने वाले दिल्ली निकाय चुनाव में दूसरी पीढ़ी की ईवीएम मशीनों और वीवीपीएटी तकनीक के इस्तेमाल की मांग लेकर उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया।


दिल्ली कांग्रेस को लगा बड़ा झटका, एमसीडी चुनाव से ठीक पहले लवली BJP में शामिल


जिसके बाद सुनवाई के दौरान राज्य निर्वाचन आयोग के वकील सुमीत पुष्करण ने आप की याचिका का यह कहकर विरोध किया कि एमसीडी चुनाव 23 अप्रैल को होने हैं और चार दिन के अंदर सभी ईवीएम मशीनों को वीवीपीएटी वाली मशीनों से बदलना संभव नहीं है। उन्होंने कहा कि दिल्ली विधानसभा चुनाव 2015 में इस्तेमाल हुई ईवीएम मशीनें ही निकाय चुनाव में इस्तेमाल हो रही हैं, जिसमें भारी बहुमत के साथ आप दिल्ली की सत्ता में आई थी।


तस्वीरों में देखें विजय माल्या की रंगीन LIFE, तो इस वजह से मचा था पूरे देश में बवाल! 


तो वहीं आप और हुसैन की ओर से पेश हुईं वरिष्ठ वकील इंदिरा जयसिंह ने कहा कि निर्वाचन आयोग वीवीपीएटी को सपोर्ट करने वाली ईवीएम मशीनों का इस्तेमाल करने के लिए बाध्यकारी है, क्योंकि सर्वोच्च न्यायालय ने 2013 में दिए फैसले में दूसरी पीढ़ी की ईवीएम मशीनों को सर्वाधिक सुरक्षित कहा है।



ईवीएम के सुरक्षा फीचर पर सवाल उठाते हुए जयसिंह ने कहा कि हाल ही में राजस्थान की धौलपुर विधानसभा सीट पर उप-चुनाव के लिए हुए मतदान के दौरान ईवीएम मशीनों के साथ गंभीर छेड़छाड़ का मामला सामने आया, चाहे आप जिस भी बटन को दबाएं वोट भाजपा को ही जा रहा था।



गौरतलब है कि पिछले दिनों पांच राज्यों में हुए चुनाव के दौरान पहली बार इस्तेमाल की गई वीवीपीएटी तकनीक के तहत मतदान करने पर एक पर्ची निकलती है, जिससे मतदाता इस बात की पुष्टि कर सकता है कि उसने जिसे भी अपना मत दिया है उसी को वोट पड़ा है।



हालांकि पर्ची मतदाता को नहीं मिलती और वहीं रखे एक बॉक्स में जमा हो जाती है। जिसे लेकर आप और कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि बिना वीवीपीएटी वाली ईवीएम मशीनों के साथ छेड़छाड़ की जा सकती है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned