जाधव मामले पर विदेश मंत्रालय का बयान- कुलभूषण की मां को वीजा देने पर पाक ने दिखाया दोहरा रवैया

Punit Kumar

Publish: Jul, 13 2017 05:52:00 (IST)

National News
जाधव मामले पर विदेश मंत्रालय का बयान- कुलभूषण की मां को वीजा देने पर पाक ने दिखाया दोहरा रवैया

भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गोपाल बागले ने गुरुवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि पाकिस्तान की ओर से जाधव को काउंसलर एक्सेस दिए जाने या फिर उनकी मां को वीजा दिए जाने के मामले में अभी तक कोई प्रगति नहीं हुई है।

पाक मीडिया ने दावा किया था कि पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव की मां को पाकिस्तान का विदेश मंत्रालय वीजा देने की बात पर विचार कर रहा है। लेकिन इसके कुछ देर बाद ही भारत ने इसका खंड़न करते हुए कहा है कि पाक विदेश मंत्रालय की ओर से ऐसा कोई प्रस्ताव नहीं मिला है। 



भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गोपाल बागले ने गुरुवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि पाकिस्तान की ओर से जाधव को काउंसलर एक्सेस दिए जाने या फिर उनकी मां को वीजा दिए जाने के मामले में अभी तक कोई प्रगति नहीं हुई है। जो कि पाकिस्तान का इस मामले में दोहरा रवैया दिखाता है। 



इससे पहले पाकिस्तानी अखबार डॉन ने अपनी एक रिपोर्ट में विदेश कार्यालय के हवाले से यह जानकारी दी थी कि पाकिस्तान ने कहा था कि जासूसी के आरोप में गिरफ्तार किए गए भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव की मां के लंबित वीजा आवेदन पर विचार किया जा रहा है। साथ ही कहा कि भारत ने पाकिस्तान से जाधव की मां अवंतिका जाधव को उनके बेटे से मिलने देने का अनुरोध किया है।




तो वहीं हाल में भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने गंभीर बीमारी से ग्रस्त पाकिस्तानी नागरिकों को भारतीय मेडिकल वीजा देने की सिफारिश करने में देरी के लिए पाकिस्तानी प्रधानमंत्री के विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अजीज की कड़ी आलोचना करते हुए कहा था कि उनकी सिफारिश मिलते ही पाकिस्तानी नागरिकों को तुरंत वीजा दिया जाएगा। स्वराज ने पाकिस्तान में जासूसी के आरोप में मौत की सजा पाए कुलभूषण जाधव की मां अवंतिका जाधव के वीजा आवेदन को लंबित रखने के लिए भी पाकिस्तान सरकार को आड़े हाथों लिया था। 




उन्होंने कहा था कि भारत में इलाज कराने के लिए मेडिकल वीजा के इच्छुक सभी पाकिस्तानी नागरिकों के प्रति मेरी सहानुभूति है। मुझे भरोसा है कि अजीज को अपने देश के नागरिकों की चिंता है। पाकिस्तानी नागरिकों को मेडिकल वीजा देने के लिए हमें सिर्फ उनकी सिफारिश की जरुरत है। उधर विदेश कार्यालय की प्रवक्ता नफीस जकारिया ने अपनी साप्ताहिक मीडिया ब्रीफिंग में उस बात पर खेद जताया कि भारत में पाकिस्तानी मरीजों को इलाज के लिए मेडिकल वीजा को मंजूर करने के लिए शर्ते रखी जा रही हैं। उन्होंने कहा कि अजीज से सिफारिश किए जाने के लिए कहना राजनयिक मानकों के खिलाफ है। 





गौरतलब है कि कुलभूषण जाधव को इसी साल अप्रैल में पाकिस्तान के सैन्य न्यायाधिकरण ने जासूसी और आतंकवाद का दोषी ठहराते हुए मौत की सजा सुनाई थी जिसे भारत ने अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में चुनौती थी और यह मामला अभी लंबित है।  

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned