देश का तीसरा सर्वोच्च सम्मान भी नहीं तोड़ पाया स्वामीजी की साधना, घर पर दिया गया पद्मभूषण सम्मान

National News
देश का तीसरा सर्वोच्च सम्मान भी नहीं तोड़ पाया स्वामीजी की साधना, घर पर दिया गया पद्मभूषण सम्मान

यह सम्मान महामहिम राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी की ओर से नई दिल्ली में सरस्वती को दिया जाना था, लेकिन पन्चाग्नि साधना में लीन रहने के कारण वे दिल्ली नहीं जा सके।


बिहार के मुंगेर योग विद्यालय के परमाचार्य परमहंस स्वामी निरंजना नंद सरस्वती को राष्ट्रपति की ओर से जिलाधिकारी ने रविवार को पद्मभूषण सम्मान भेंट किया। 



जिलाधिकारी उदय कुमार सिंह ने यहां बताया कि यह सम्मान महामहिम राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी की ओर से नई दिल्ली में सरस्वती को दिया जाना था, लेकिन पन्चाग्नि साधना में लीन रहने के कारण वे दिल्ली नहीं जा सके।



सरस्वती को यह सम्मान योग के प्रचार-प्रसार के लिए दिया गया है। 



पद्मभूषण से सम्मानित किए जाने पर सरस्वती ने कहा कि यह सम्मान के हकदार हमारे गुरु स्वामी सत्यानंद सरस्वती जी हैं जिन्होंने जीवन की पथरीली जमीन को उर्वरा बनाने का कार्य किया।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned