UP विधानभवन में PETN विस्फोटक मिलने के 72 घंटे बाद भी किसी नतीजे पर नहीं पहुंची सुरक्षा एजेंसियां, ATS ने माकड्रिल कर परखी सुरक्षा

Abhishek Pareek

Publish: Jul, 16 2017 01:40:00 (IST)

National News
UP विधानभवन में PETN विस्फोटक मिलने के 72 घंटे बाद भी किसी नतीजे पर नहीं पहुंची सुरक्षा एजेंसियां, ATS ने माकड्रिल कर परखी सुरक्षा

उत्तर प्रदेश विधानसभा भवन में विस्फोटक पदार्थ मिलने के 72 घंटे बीत जाने के बाद भी आतंकवादी निरोधक दस्ता (एटीएस) तथा अन्य सुरक्षा एजेंसियां किसी नतीजे पर नहीं पहुंच सकी हैं।

उत्तर प्रदेश विधानसभा भवन में PETN विस्फोटक पदार्थ मिलने के 72 घंटे बीत जाने के बाद भी आतंकवादी निरोधक दस्ता (एटीएस) तथा अन्य सुरक्षा एजेंसियां किसी नतीजे पर नहीं पहुंच सकी हैं कि आखिर चाक चौबंद सुरक्षा के बावजूद विस्फोटक यहां तक कैसे पहुंचा। देश के बडे़ राज्य के विधानभवन की सुरक्षा के मद्देनजर आज एटीएस तथा अन्य सुरक्षा एजेसियों ने माकड्रिल (सांकेतिक अभ्यास) किया। राष्ट्रपति पद उम्मीदवार के चयन के लिए कल यहां वोट डाले जाएंगे। जांच कर रही एजेंसियां अभी किसी नतीजे पर नहीं पहुचीं हैं।




दूसरी ओर उत्तर प्रदेश सरकार ने केन्द्र सरकार को पत्र लिखकर इसकी जांच एनआईए से कराने के लिए कहा था। राज्य सरकार ने पत्र के साथ एफआईआर की काॅपी तथा अन्य जानकारी एनआईए को भेजी है । राष्ट्रपति पद के लिये चुनाव के वोट कल सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे तक डाले जाएंगे। विधानभवन की सुरक्षा व्यवस्था को दुरस्त कर रखने के लिए सुरक्षा एजेसियों ने आज माकड्रिल किया ताकि इसमें किसी प्रकार की कोई कोर कसर न रहे।




एटीएस के पुलिस महानिरीक्षक असीम अरूण ने बताया कि विधानभवन में विस्फोटक कैसे पहुंचा और कौन इसे वहां ले गया इसकी जांच चल रही है। इस मामले में पूछताछ जारी है। जांच एजेसियां अभी तक किसी नतीजे पर नहीं पहुंची है कि कौन इसे वहां ले गया। उन्होंने कहा कि सुरक्षा के मद्देजर आज माकड्रिल किया गया। सुरक्षा के खामियों के बारे में एक बैठक की गयी जिससे इसमें आयी कमियों को दूर किया जा सके। उन्होंने बताया कि सभी एजेसियों ने अपना अपना एक प्रतिनिधि माकड्रिल में भेजा था जो अपनी रिपोर्ट सरकार को देगा। इसके बाद सरकार सुरक्षा में आयी कमियों को दूर करेगी।




पुलिस महानिरीक्षक ने इस बात की पुष्टि की है कि समाजवादी पार्टी(सपा) विधायक मनोज पाण्डेय से कल एटीएस ने पूछताछ की और विधायक अनिल दोहरे कल अपना बयान दर्ज करेंगे। विधानभवन में विस्फोटक पदार्थ गत 12 जुलाई को दोनों विधायकों की सीट के नीचे से मिला था। विधानसभा भवन में मिले विस्फोटक प्रकरण में एटीएस के अधिकारियों द्वारा विधानसभा भवन में नियुक्त विधानसभा के एक असिस्टेंट मार्शल, चार इंजीनियरों, दो सुरक्षाकर्मियों, बीडीएस एवं डॉग स्क्वायड में तैनात एक ऑपरेटर तथा सात चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों से पूछताछ कर उनके बयान दर्ज किए।




एटीएस के अधिकारियों द्वारा विधानभवन परिसर में लगे कुल 23 कैमरों जिनमें 12 कैमरे परिसर में, छह कैमरे भवन मंडल में, दो कैमरे सत्ता पक्ष एवं विपक्ष के आवागमन गेट पर तथा सदन के भीतर स्थापित दूरदर्शन के तीन कैमरों की रिकॉर्डिंग लेकर गहनता से खंगालने की कार्रवाई की जा रही है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned