100 साल का हुआ चांदपोल चर्च, 95 साल पुरानी घड़ी की गूंज रही टिकटिक

guest user

Publish: Mar, 09 2017 11:18:00 (IST)

Jaipur, Rajasthan, India
100 साल का हुआ चांदपोल चर्च, 95 साल पुरानी घड़ी की गूंज रही टिकटिक

100 साल का हुआ चांदपोल चर्च, 95 साल पुरानी घड़ी की गूंज रही टिकटिक स्थापना के सौ वर्ष पूरे होने पर मनाया जा रहा उत्सव

 गुलाबी नगर जयपुर का सबसे पुराना सेंट एंड्रूयज सीएनआई चर्च यानी कि चांदपोल चर्च 100 बरस का हो गया है। सौ वर्ष पुराने इस चर्च में लगी 95 साल पुरानी घड़ी आज भी आकर्षण का केन्द्र बनी हुई है। स्थापना का शतक पूरा होने के उपलक्ष में यहां कल से तीन दिवसीय सेंटेनरी सेलिब्रेशन प्रोग्राम शुरू होगा।


लक्ष्मीनारायण बाईजी मंदिर में फागोत्सव,सजेगी बाबा की झांकी


 चर्च के फादर क्रूस लोयल ने बताया कि चर्च के निर्माण की प्रक्रिया वर्ष 1912 में शुरू हुई थी। तत्कालीन महाराजा माधोसिंह ने 43515 वर्ग फीट जमीन चर्च के लिए दान दी थी। इसके बाद 1915 में चर्च का निर्माण कार्य शुरू हुआ जो 11 मई 1917 को पूरा हुआ। चर्च का निर्माण मुख्य इंजीनियर लफटीनेंट कर्नल सर स्टीवन याकूब की देखरेख में हुआ।


ट्रेन में विस्फोट का मामला : संदिग्धों से पूछताछ के लिए यूपी जाएगी एटीएस


 उस वक्त चर्च बनाने पर करीबन 33 हजार रूपए की लागत आई थी। वर्ष 1937 में सादिक इमामुदीन जयपुर कलिसिया के प्रथम पादरी नियुक्त किए गए थे। कलिसिया के चर्च रोल रिकॉर्ड में अब तक 1,258 सदस्य हो चुके हैं। 95 साल बाद भी वक्त बता रही घड़ी चांदपोल चर्च में लगी 95 साल पुरानी घड़ी यहां आने वाले लोगों को अब भी सही वक्त बता रही है। 


कांग्रेसी नेता भी पार्षदों के धरने में शामिल, अब सड़कों पर उतरने की तैयारी


7 मई 1922 को लगाई गई घड़ी उस समय 2 हजार रूपए में खरीदी गई​ थी। इतने साल बाद भी घड़ी की टिक​टिक की गूंज चर्च भवन में सुनाई देती है। यह घड़ी यहां आने वाले लोगों के आकर्षण का केन्द्र है। 


'रंग-उमंग' से उभरेगा जयपुर,होली के रंगो में आज होगी हास्य की बरसात


आज भी लोगबाग इस घड़ी को देखकर रोमांचित होते हैं। घड़ी का डिजाइन और तकनीक अपने आप में खास है। उस समय के हिसाब से घड़ी की कीमत 2 हजार रूपए होना भी अपने आप में आकर्षण है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned