यहां नगर निगम में सत्ता पक्ष हो या विपक्ष दोनों में ही आपसी सहमति का संकट है, नहीं मिला नेता प्रतिपक्ष

vijay ram

Publish: May, 19 2017 03:05:00 (IST)

Jaipur, Rajasthan, India
यहां नगर निगम में सत्ता पक्ष हो या विपक्ष दोनों में ही आपसी सहमति का संकट है, नहीं मिला नेता प्रतिपक्ष

खाचरियावास के मुताबिक, कांग्रेस में बहुत से पार्षद नेता प्रतिपक्ष बनने के योग्य हैं, दिवंगत गुलाम नबी लंबे अर्से तक नेता प्रतिपक्ष पद पर रहे थे। लेकिन ऐसा क्यों कि सत्तापक्ष समितियों पर उलझा तो विपक्ष नहीं चुन पाया नेता प्रतिपक्ष..

नगर निगम जयपुर में सत्ता पक्ष हो या विपक्ष दोनों में ही आपसी सहमति का संकट है। सत्ता पक्ष नया मेयर नियुक्त करने के बाद समितियां बनाने के मामले में उलझ गया है। तो विपक्ष नेता प्रतिपक्ष चुनने के मसले पर अटक गया है।



कई दावेदारों ने बढ़ाई मुश्किल
निगम में लंबे समय तक नेता प्रतिपक्ष रहे कांग्रेस पार्षद गुलाब नबी के निधन से नेता प्रतिपक्ष का पद रिक्त हो गया, लेकिन कांग्रेस उनकी जगह पर नेता प्रतिपक्ष कौन बने इसका फैसला नहीं कर पाई है। कांग्रेस पार्षदों का कहना है कि दिवंगत गुलाम नबी लंबे अर्से तक नेता प्रतिपक्ष पद पर रहे थे।



इसलिए कांग्रेस के सामने किसी दूसरे को चुनने की नौबत ही नहीं आई थी। अब नेता प्रतिपक्ष का पद खाली होने के बाद से कांग्रेस पार्षद दल में इसके कई दावेदार हैं। आपसी सहमति नहीं बनती देख कांग्रेस ने फिलहाल वार्ड 76 में उप चुनाव तक नेता प्रतिपक्ष नहीं चुनने की दलील देकर कांग्रेस पार्षदों के बीच चली रस्साकस्सी को एकबारगी रोक दिया है। सूत्रों की मानें तो उप नेता विपक्ष धर्म सिंह सिंघानिया, पार्षद उमर दराज और पार्षद मंजू शर्मा सहित आधा दर्जन पार्षद वरिष्ठता सहित अन्य आधार पर दावा जता रहे हैं।



Read: यहां प्रधानमंत्री कार्यालय तक के आदेश बेअसर साबित हो रहे हैं, इनका काम करने तरीका भी अपने आप में खास है
पार्टी संगठन ने कांग्रेस पार्षद दल में से फिलहाल नेता प्रतिपक्ष नहीं चुनने का फैसला किया है। उप चुनाव के बाद इस पर विचार होगा। फिलहाल कांग्रेस उप नेता प्रतिपक्ष पद से ही निगम में विपक्ष का प्रतिनिधित्व करेगी।
धर्मसिंह सिंघानिया, उप नेता विपक्ष, नगर निगम


jaipur/water-crisis-in-jaipur-rajasthan-2577983.html">
PHOTOS: गर्मी झुलसा ही रही है, यहां 4 माह से टंकी भी खाली, पानी के लिए त्राही-त्राही मच रही है

कांग्रेस में बहुत से पार्षद नेता प्रतिपक्ष बनने के योग्य हैं, लेकिन गुलाम नबी के निधन को ज्यादा वक्त नहीं बीता है, इसलिए पार्टी संगठन इस पर बाद में विचार करेगा। सत्ता पक्ष या विपक्ष पद की चाहत तो सभी में होती है, पार्षदों की दावेदारी स्वभाविक है।
प्रतापसिंह खाचरियावास, शहर जिलाध्यक्ष, कांग्रेस



Read: पेपर निरस्त किए जाने पर राजस्थान यूनिवर्सिटी में बवाल, पथराव-लाठीचार्ज, बही खून की धार

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned