गुर्जर अब फिर ओबीसी कैटेगरी में शामिल, राजस्थान सरकार ने इन जातियों के लिए भी दी खुशखबरी

Jaipur, Rajasthan, India
गुर्जर अब फिर ओबीसी कैटेगरी में शामिल, राजस्थान सरकार ने इन जातियों के लिए भी दी खुशखबरी

सरकार ने की अधिसूचना जारी, बंजारा, गाडि़या लुहार, राइका, गडरिया भी सूची में। देखें...

राजस्थान में पिछले कई वर्षों से पिछड़ा वर्ग में लिस्टेड होने व आरक्षण के लिए संघर्ष कर रहे गुर्जर समाज के लिए राहतभरी खबर है। राज्य के विशेष पिछड़ा वर्ग (एसबीसी) में शामिल गुर्जर समेत पांच जातियों को वापस अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) में शामिल किया गया है।



गुर्जर समेत पांच जाति एसबीसी से वापस ओबीसी में
सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग की ओर से शुक्रवार को इस बारे में अधिसूचना जारी की गई। विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव अशोक जैन ने बताया कि जाति बंजारा, वालदिया व लबाना, गाडि़या लुहार व गाडोलिया, गूजर व गुर्जर, राइका व रैबारी (देबासी) और गडरिया (गाडरी) व गायरी को वापस इस सूची में शामिल किया गया है।



अधिसूचना के अनुसार 06 अगस्त 1994 को बंजारा, बालदिया, लबाना, गडरिया (गाडरी), गायरी, गाडिय़ा-लोहार, गाडोलिया, गूजर, गुर्जर एवं राइका, रैबारी (देबासी) को अन्य पिछड़ा वर्ग की सूची में रखा गया था। इसके बाद राजस्थान अनुसूचित जाति, जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग, विशेष पिछड़ा वर्ग एवं आर्थिक पिछड़ा वर्ग (राज्य की शैक्षिक संस्थाओं में सीटों और राज्य के अधीन सेवाओं में नियुक्तियों और पदों का आरक्षण) अधिनियम, 2008 लागू किया गया।


jaipur/rajasthan-govt-transfer-of-top-officials-and-district-collector-2578280.html">
Read: राजस्थान में सीएम की नाराजगी के चलते हो गए जिला कलक्टर समेत इन आला अधिकारियों के तबादले

अधिनियम लागू होने के बाद चार जातियों 1. बंजारा, बालदिया, लबाना, 2. गाडिय़ा-लुहार, गाडोलिया, 3. गुर्जर, गूजर, 4. राइका, रैबारी (देबासी) जातियों को 25, अगस्त 09 औरगडरिया (गाडरी), गायरी को 28 नवंबर, 2012 को विशेष पिछड़ा वर्ग की सूची में शामिल किया गया था। अधिसूचना 9 दिसम्बर 2016 से प्रभावी होगी।



Read: दुनियाभर में 1500 करोड कमाने वाली पहली इंडियन मूवी बनी बाहुबली 2, महज 20 दिन में बना ये क्लब

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned