औलाद से परेशान पिता जिंदा ही अपनी देह दान करने SMS मेडिकल कॉलेज पहुंच गया, बेटे-बहु पीटते थे

Jaipur, Rajasthan, India
औलाद से परेशान पिता जिंदा ही अपनी देह दान करने SMS मेडिकल कॉलेज पहुंच गया, बेटे-बहु पीटते थे

उसके दो बेटे व एक बेटी है, संपत्ति को हथियाने के लिए उसके बेटे-बहु एवं उसकी बेटी उसे आए दिन प्रताडि़त करते। पुलिस ने भी हाथ खड़े कर दिए तो मरने की सोची...

कहते हैं मां—बाप का दर्जा भगवान से भी बढ़कर होता है, लेकिन जब औलाद ही मां—बाप की परेशानी का सबब बन जाए तो भला मां—बाप भी कहां जाएं।



यहां जयपुर में एक दु:खी पिता की ऐसी ही पीड़ा एसएमएस मेडिकल कॉलेज में देखने को मिली। हुआ यूं कि बेटे और बहु से परेशान एक 60 वर्षीय बुजुर्ग पिता एसएमएस मेडिकल कॉलेज में अपनी देह दान करने पहुंच गया। पिडि़त पिता के इस कदम को मेडिकल कॉलेज के एनॉटोमी विभाग ने नियमानुसार गलत बताया और बुजुर्ग को नियमानुसार देह दान करने की सलाह दी।



बुजुर्ग ने अपना नाम तेजराम बताया। उसने कहा कि वह आमेर में बेटे-बहु के साथ रहता है। तेजराम ने कहा कि उसके दो बेटे व एक बेटी है, संपत्ति को हथियाने के लिए उसके बेटे-बहु एवं उसकी बेटी उसे आए दिन प्रताडि़त करते हैं। बेटे बहु ने उसकी सम्पत्ति के कागजात व जमा की हुई नकदी भी निकाल ली।



Read: यहां ऑवरलोड ट्रोले सड़कों पर यमदूत बन कर दौड़ रहे हैं, सशक्त कानून है, फिर भी लगाम नहीं, वहज हैं यें
छोटा बेटा संपत्ति में से अपना हिस्सा लेकर दिल्ली चला गया। बची हुई सम्पति को बड़ा बेटा रमेश और उसकी पत्नी कविता हथियाना चाहते हंै। इसके लिए आए दिन वे पिता के साथ मारपीट करते हंै। बुजुर्ग ने बताया कि गत 9 जून को उसे घर पर प्रॉपर्टी के कागजात खंगाले, जब कागजात के बारे में बेटे-बहु से पूछा तो उन्होंने उसे कमरे बंद कर मारपीट की।



इधर पुलिस से नहीं की सहायता

परीवार से परेशान पिता ने जब आमेर थाने में बेटे — बहू के खिलाफ रीपोर्ट दर्ज करवाने का प्रयास किया तो पुलिस ने भी हाथ खड़े कर दिए। बुजुर्ग ने कहा कि पुलिस को जब आप बीती सुनाई तो उन्होंने पारिवारिक मामला खुद ही निपटने की बात कही।


jaipur/crime-branch-arrested-cyber-thugs-group-from-jaipur-rajasthan-2601815.html">
Read: महाठगबंधन ने 23 राज्यों में 256 फर्जी नंबरों से हजारों लोगों को कॉल किए, 6 कंपनियां खडी कर करोडों बटोरे

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned