जयपुर के पिता-पुत्र की ये जोड़ी विदेश में बजाएगी भारत का डंका, अफ्रीका के माउंट किलिमंजारो को करेगी फतह

Punit Kumar

Publish: Jun, 16 2017 06:18:00 (IST)

Jaipur, Rajasthan, India
जयपुर के पिता-पुत्र की ये जोड़ी विदेश में बजाएगी भारत का डंका, अफ्रीका के माउंट किलिमंजारो को करेगी फतह

नीरज भारद्वाज जयपुर में व्यवसायी हैं और उनके पुत्र आदित्य भारद्वाज वर्तमान में जयपुर के सेंट जेवियर्स स्कूल में कक्षा 12वीं के छात्र हैं।

जयपुर निवासी नीरज भारद्वाज और उनके बेटे आदित्य भारद्वाज दुनिया के सबसे ऊंचे पहाड़ पर चढ़ने के लिए तैयार है। शायद यह पहला मामला है जब अफ्रीका के तंजानिया में स्थित किलिमंजारो पहाड़ पर पिता व पुत्र की जोड़ी चढ़ने जा रही है। पिता नीरज भारद्वाज की उम्र 48 साल है। जबकि उनके बेटे की उम्र 16 साल है। वहीं उनके साथ जयपुर के मोहित गोस्वामी (35) भी जाएंगे। 



शुक्रवार को दोनों पिता और पुत्र इस चढ़ाई के लिए तंजानिया रवाना हो रहे हैं, जहां मोषी में बेस कैम्प है। इस पर्वत की चोटी समुद्र तल से 5,895 मीटर की ऊंचाई पर है। नीरज भारद्वाज व आदित्य भारद्वाज 7 दिन में इस लक्ष्य को प्राप्त करने का प्रयास करेंगे।



इस अभियान की शुरुआत 19 जून से होगी। वहीं इससे पहले पिता और पुत्र की यह जोड़ी नेपाल में अन्नपूर्णा बेस कैंप तक ट्रैकिंग कर चुकी है। इस दौरान नीरज भारद्वाज ने बताया कि किलिमंजारो की चढ़ाई का अंतिम 10 से 15 फीसदी भाग क्लाइम्बिंग होगी, जबकि शेष सामान्य ट्रैकिंग होगी। उन्होंने यह भी बताया कि वहां की जलवायु के अनुकूल होने के लिये प्रथम दिन वे बेस कैंप में ठहरेंगे।  



नीरज भारद्वाज जयपुर में व्यवसायी हैं और उनके पुत्र आदित्य भारद्वाज वर्तमान में जयपुर के सेंट जेवियर्स स्कूल में कक्षा 12वीं के छात्र हैं। नीरज भी सेंट जेवियर्स स्कूल के एलुमनस (पूर्व छात्र) हैं। वे इस पहाड़ की चोटी पर फहराने के लिए अपने साथ राष्ट्रीय ध्वज और स्कूल का झंडा भी साथ ले जा रहे हैं।



गौरतलब है कि दुनियाभर में पहाड़ों पर ट्रैकिंग के शौकीन लोगों में किलिमंजारो पर्वत की ट्रैकिंग सर्वाधिक पसंदीदा मानी जाती है। यहां का मौसम माइनस जीरो डिग्री होता है और यहां चलने वाली तेज हवाएं इसके सफर को और अधिक कठिन बना देती हैं। 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned