राजस्थान में न कम न ज्यादा, अच्छी होगी बरसात

Jaipur, Rajasthan, India
राजस्थान में न कम न ज्यादा, अच्छी होगी बरसात

प्रदेश में इस मानसून में सामान्य से अधिक वर्षा होगी। हालांकि वर्षा छितराई ही रहेगी। मानसून की यह गणना आषाढ़ शुक्ल पूर्णिमा पर शनिवार को वेेधशाला जंतर-मंतर में।

प्रदेश में इस मानसून में सामान्य से अधिक वर्षा होगी। हालांकि वर्षा छितराई ही रहेगी। मानसून की यह गणना आषाढ़ शुक्ल पूर्णिमा पर शनिवार को वेेधशाला जंतर-मंतर में। शहर के जाने-माने ज्योतिषाचार्यों ने वायु परीक्षण की गणना सूर्यास्त के समय वेधशाला के सम्राट यंत्र पर झंडा लगाकर व हवा में उसकी दिशा जानकर की गई।




आनन्दपाल एनकाउंटर : राजपूत समाज ने दी चेतावनी, सीबीआई जांच नहीं तो 11 को जाएंगे सांवराद




जगद्गुरू रामानंदाचार्य राजस्थान संस्कृत विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. विनोद शास्त्री ने बताया कि शाम 7.20 बजे हवा पश्चिम से पूर्व की ओर बही। इससे पहले भी हवा लगातार इसी तरह से बह रही थी। इसके अनुसार प्रदेश में सुवृष्टि होगी। लेकिन, यह स्थिति कहीं-कहीं खंड वर्षा (छितराई बारिश) के भी संकेत हैं। यह स्थिति शुरुआत में कुछ व्यवधान के संकेत हैं। मगर बाद में अच्छी बारिश होगी। इस गणना से करीब 100 किलोमीटर तक के क्षेत्र की सटीक गणना की जाती है। गणना के दौरान पंडित रामपाल शर्मा, पंडित दामोदर प्रसाद शर्मा, पंडित चंद्रशेखर शर्मा सहित कई अन्य ज्योतिष विद्वान भी मौजूद रहे।




राजस्थान में सभी स्टूडेंट्स को अब ये सुविधा मिलेगी, घर से बाहर नहीं जाना पड़ेगा इन चीजों के लिए






290 साल से हो रही गणना, वर्ष 1727 में हुई थी शुरू

वायु परीक्षण की यह परम्परा 290 वर्ष से चल रही है। वर्ष 1727 में पहली बार गणना की गई थी। तब से हर साल से गणना की जा रही है। साल में एक बार ज्योतिषाचार्य करीब 52 फीट ऊंचे सम्राट यंत्र पर गणना कर रहे हैं।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned