भूख और प्यास से मरने वाले पक्षियों को बचाने की पहल अब हर घर से होगी, जानें पत्रिका का 'पनेरी' कैंपेन

vijay ram

Publish: May, 14 2017 01:57:00 (IST)

Jaipur, Rajasthan, India
भूख और प्यास से मरने वाले पक्षियों को बचाने की पहल अब हर घर से होगी, जानें पत्रिका का 'पनेरी' कैंपेन

प्रतिष्ठित मीडिया ग्रुप पत्रिका के अभियान के तहत आप भी इस गर्मी घर-घर लगाएं परिंदों की 'पनेरी'....

गर्मी के मौसम में भूख और प्यास से मरने वाले पक्षियों को बचाने की पहल अब हर घर से की जाएगी। राजस्थान पत्रिका मीडिया एक्शन ग्रुप के 'पनेरी' अभियान के तहत कई स्वयंसेवी संस्थाएं पनेरी लगाएंगी।



पनेरी यानी पंछियों के लिए जलस्रोत में दाना-पानी का इंतजाम होगा। पक्षियों का जीवन बचाने के इस अभियान में जयपुर की कई स्वयंसेवी संस्थाओं के साथ-साथ आमजन को जोड़ा जाएगा।



नियमित दाना-पानी

ब्लॉसम्स एवं रक्षा संस्था की ओर से शहर के कई इलाकों में 200 से ज्यादा पनेरी लगाई जाएंगी। वहीं बाल संबल संस्था के बच्चे इन पनेरियों को रंगों से सजाएंगे और अभियान का लोगो बनाएंगे। नियमित पानी भरने और दाना डालने के लिए आसपास के लोगों को प्रेरित किया जाएगा। कम आबादी या जंगली इलाकों में संस्था के वॉलिंटियर्स दाना-पानी डालेंगे। अभियान में सरकारी भवनों, कॉलोनियों, सार्वजनिक पार्कों में पेड़ों पर पनेरी लगाए जाएंगे।



हर साल मर जाते हैं हजारों परिंदे
गर्मी में जलस्रोत सूखने से परिंदों को आसानी से पानी नहीं मिलता। शहर में बड़े जल स्रोत का अभाव होने के कारण प्रवासी पक्षियों को भी आसानी से दाना-पानी नहीं मिलता और हजारों पक्षी काल का ग्रास बन जाते हैं।



Read: जयपुर में अमरूदों के बाग में लग गई आग, भरी गर्मी में हो गए करीब 100 पेड जलकर खाक
हर घर के बाहर, कई छोटे-छोटे जन समूह मिलकर कॉलोनियों में पनेरी वितरण करके, पार्क, सरकारी भवनों, पेड़ों में पनेरी लगाकर पक्षियों का जीवन बचाने के इस अभियान से जुड़े।



पनेरी राजस्थानी शब्द

राजस्थानी भाषा के शब्द पनेरी का अर्थ एक ऐसा पानी का स्रोत जो पक्षियों के लिए है। अभियान का उद्द्ेश्य अपनी भाषा के साथ जुड़ाव कायम करते हुए प्रकृति की गहरी फिक्र करना और बदलाव लाना भी है। अन्य संस्था, कॉरपोरेट, समूह अभियान से जुडऩे के लिए नजदीकी पत्रिका कार्यालय से सम्पर्क  करें।



Read: जमीन आवंटन रद्द करने वाले अफसर पर राजस्थान हाईकोर्ट ने कार्रवाई का आदेश दिया, मामला ये है

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned