आनंदपाल एनकाउंटर पर सफाई रखने के लिए राजस्थान पुलिस आई सामने, जानें प्रेस कांफ्रेंस में क्या-कुछ कहा

Jaipur, Rajasthan, India
आनंदपाल एनकाउंटर पर सफाई रखने के लिए राजस्थान पुलिस आई सामने, जानें प्रेस कांफ्रेंस में क्या-कुछ कहा

आनंदपाल एनकाउंटर को लेकर उठ रहे सवालों का जवाब देने के लिए राजस्थान पुलिस प्रेस कॉन्फ्रेंस के ज़रिये मुखातिब हुई। पुलिस अधिकारियों ने कहा कि एनकाउंटर में सुप्रीम कोर्ट की सभी गाइडलाइन्स का पालन किया गया।


राजस्थान के गैंगस्टर रहे आनंदपाल के एनकाउंटर को लेकर उठ रहे सवालों का जवाब देने के लिए राजस्थान पुलिस प्रेस कॉन्फ्रेंस के ज़रिये मुखातिब हुई।  एडीजी कानून व्यवस्था एनआरके रेड्डी  और एडीजी क्राइम पंकज सिंह ने प्रेस कांफ्रेंस को सम्बोधित किया।  



एडीजी एनआरके रेड्डी ने कहा कि अपराधियों का कोई जाति धर्म नहीं होता। वहीं एडीजी पंकज सिंह ने कहा कि अानंदपाल ने हिंसा का रास्ता अपनाया था। उसकी गैंग में कई जाति के लोग शामिल थे। धाक जमाने के लिए हथियारों का इस्तेमाल करना उसका मकसद था।  



राजस्थान पुलिस के अधिकारियों ने कहा कि  एनकाउंटर में सुप्रीम कोर्ट की सभी गाइडलाइन्स का पालन किया गया। 



READ: आनंदपाल के इस फार्महाउस में तो परिंदा भी नहीं मार सकता था पर 



पीके सिंह ने कहा कि आनंदपाल का नागौर में फार्म हाउस मिला है, जिसमें विशेष सुरक्षा व्यवस्था रखी गई थी। उसे पकड़ने के लिए हरियाणा में भी कई बार छापा मारा गया।  



एडीजी क्राइम पीके सिंह ने कहा कि कोर्ट की गाइड लाइन के अनुसार की कार्रवाई हुई है। इसके लिए 12 सीनियर पुलिस अफसरों को विशेष तौर पर लगाया गया जो पहले सीबीआई में रह चुके हैं। 



पीके सिंह ने कहा एनकाउन्टर फेक नहीं था, यही वजह रही कि परिजन या अन्य कोई कोर्ट नहीं गए। आनंदपाल से लोहा लेने के लिए पुलिसकर्मियों को विशेष ट्रेनिंग दी गई थी।  



प्रेस कांफ्रेंस में रु-ब-रु हुए अधिकारियों ने बताया कि एसपी से मारपीट व हथियार छीनने के दौरान छीना झपटी में फायरिंग हुई थी। गांव की कुछ महिलाओं ने भी महिला पुलिसकर्मियों को बचाया। आनंदपाल का अंतिम संस्कार गांव वालों की मदद से करवाया गया।  एक दो दिन में कर्फ्यू हटा दिया जाएगा। पुलिसवालों के हथियार की तलाश फिलहाल जारी है।  प्रदर्शनकारियों में अच्छे लोग भी थे, जिन्होंने पुलिस की मदद की। 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned