राजस्थान में करीब 95% स्त्री रोग ऑपरेशन बड़े चीरे से हो रहे हैं, ये पहला केंद्र है जहां एंडोस्कोपिक सर्जरी होगी

Jaipur, Rajasthan, India
राजस्थान में करीब 95% स्त्री रोग ऑपरेशन बड़े चीरे से हो रहे हैं, ये पहला केंद्र है जहां एंडोस्कोपिक सर्जरी होगी

जयपुर में हुआ सेन्टर फॉर एडवांस्ड गायनोकोलोजीकल एंडोस्कोपिक सर्जरी के ट्रेनिंग सेंटर का उद्घाटन। कई चीजें नई होंगी..

महात्मा गांधी यूनिवर्सिटी ऑफ मेडिकल साइंसेज एंड टेक्नोलॉजी में सेन्टर फॉर एडवांस्ड गायनोकोलोजीकल एंडोस्कोपिक सर्जरी के ट्रेनिंग सेंटर का उद्घाटन हो गया है। इस मौके पर गायनी एण्डोस्कोपिक कार्यशाला का भी आयोजन किया गया।



कार्यक्रम की मुख्य अतिथि के रूप में ए स नई दिल्ली की प्रसूति एवं स्त्री रोग विभागाध्यक्ष डॉ. अलका कृपलानी ने शिरकत की और अध्यक्षता डॉ. एमएल स्वर्णकार ने की। विशिष्ट अतिथि के तौर पर सेवानिवृत आईएएस डॉ. गोविन्द नारायण शर्मा रहे।



डॉ.अलका कृपलानी ने कहा कि प्रदेश में करीब 95 प्रतिशत स्त्री रोग ऑपरेशन बड़े चीरे से हो रहे हैं। मेट्रो सिटीज में यह सं या बहुत कम है। एंडोस्कोपिक सर्जरी से छोटा चीरा लगता है, दर्द कम होता है, ठहराव कम होता और सामान्य होने की प्रक्रिया बहुत तेज होती है। बड़े चीरे के ऑपरेशन में रोगी एक माह में सामान्य होता है।


jaipur/police-caught-love-couple-in-jaipur-2530854.html">
Read: घर से फरार प्रेमी जोड़े को अब जयपुर में पुलिस ने किया दस्तयाब, इतनी दूर से यहां रह रहे थे

डॉ. एमएल स्वर्णकार ने कहा कि स्त्री रोगों की एंडोस्कोपिक सर्जरी का प्रदेश में पहला केन्द्र है। इसमें स्त्री रोग विशेषज्ञों को गर्भाशय, ओवरी, फैलोपियन टयूब की गांठ, कैंसर, नसबंदी के ऑपरेशन को खोलना आदि का व्यवहारिक प्रशिक्षण दिया जाएगा।



सेन्टर के निदेषक डॉ. विजय नाहटा ने बताया कि कार्यशाला में डेढ़ सौ से अधिक स्त्री रोग विशेषज्ञ आए हैं। सेंटर में इस साल सौ से अधिक चिकित्सकों को गाइनी एण्डोस्कोपी सर्जरी के लिए प्रशिक्षित किया जायेगा। कार्यक्रम में विश्वविद्यालय के अन्य कई चिकित्सा विशेषज्ञ भी शामिल हुए।



Read: जयपुर में 6 वर्षीय बच्ची से दुष्कर्म का आरोपी आज कोर्ट में, 2 हत्या के मामले में काट चुका 5 साल जेल, रह रहा था लिव इन में

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned