सूखे पेड़ों के ठूंठ बरसात के मौसम में लोगों के लिए मुसीबत बन रहे हैं, लेकिन जिम्मेदार अब सो गए हैं

vijay ram

Publish: Jul, 16 2017 07:30:00 (IST)

Jaipur, Rajasthan, India
सूखे पेड़ों के ठूंठ बरसात के मौसम में लोगों के लिए मुसीबत बन रहे हैं, लेकिन जिम्मेदार अब सो गए हैं

अधिकारियों का भी यहीं से आना जाना रहता होगा जिनके जिम्मे इन बेकार ठूंठों को हटाने का भार है, लेकिन लगता है प्रशासन किसी बड़े हादसे के इंतजार में है। जबकि, जेडीए-नगर निगम जोर हरे पेड़ों को कटवाने पर चल जाता है, लेकिन ठूंठों से डर रहे हैं...

शहर में सूखे पेड़ों के ठूंठ बरसात के मौसम में लोगों के लिए मुसीबत बन रहे हैं। सड़क किनारे खड़े ये ठूंठ कभी भी हादसे को अंजाम दे सकते हैं। यहां से रोजाना सैंकड़ों वाहन गुजरते हैं।



शायद कुछ अधिकारियों का भी यहीं से आना जाना रहता होगा जिनके जिम्मे इन बेकार ठूंठों को हटाने का भार है, लेकिन लगता है प्रशासन किसी बड़े हादसे के इंतजार में है। सड़क किनारे खड़े ये ठूंठ कभी भी वाहनचालकों पर गिर सकते हैं। जब भी तेज आंधी या हवाएं चलती हैं तो ये जोर-जोर हिलने लगते हैं। यदि समय रहते इन्हें हटाया नहीं गया तो कभी भी जान-माल की क्षति होते टाइम नहीं लगेगा।



नहीं मिली परमिशन

सरदार पटेल मार्ग स्थित आर्मी गेस्ट हाउस की चार दीवारी के साथ इमली का पुराना पेड़ है, जो दीवार में से होते हुए सड़क की ओर झुका हुआ है। प्रशासन की अनुमति के बिना पेड़ को हटाया नहीं जा सकता और आर्मी कर्मचारियों का कहना है कि डीओ ऑफिस से परमिशन नहीं मिल रही है इस वजह से कटाई नहीं हो पा रही है।



सड़क किनारे खड़े ठूंठ, दे रहे हादसों को न्यौता

वहीं नजदीक ही डाक संचार विभाग भवन के बाहर चिट्ठी वाले हनुमानजी के मंदिर के बाहर सूखा पेड़ काफी पुराना है। बारिश में यह कभी भी गिर सकता है, जिससे बड़ा हादसा होने की संभावना है।



Read: आनंदपाल की बेटी बोली- फैमिली को भूखा कमरे में बंदकर ले गए थे पापा की बॉडी
शिकायत पर नहीं हुई सुनवाई
चितरंजन मार्ग पर ही एक पुराना पेड़ है, जो किसी भी समय गिरने को तैयार है। कॉलोनीवासियों ने कई बार पेड़ हटाने की शिकायत नगर निगम में की है, लेकिन अभी तक कोई सुनवाई नहीं हुई।



हटाना जरूरी है
अशोक पार्क में पेड़ों की छंटाई हर साल की जाती है, लेकिन कुछ पुराने पेड़ों को नहीं हटाया जा रहा है। पार्क में तीन पेड़ काफी पुराने हैं, जिनको हटाया जाना जरूरी है अन्यथा वे कभी भी गिरकर जान-माल को हानि पहुंचा सकते हैं।



नहीं हटाए जा सकते
हरे पेड़ तो नहीं हटाए जा सकते, लेकिन अगर हमें कोई सूचना पुराने पेड़ हटाने की मिलती है तो हम उसे हटाने का प्रयास करेंगे। हमारे पास कोई सूचना नहीं पहुंच रही है। पुराने व सूखे पेड़ों की उनके पास कोई जानकारी नहीं है।
- बद्रीप्रसाद शर्मा, उपायुक्त, उद्यान, नगर निगम



Read: अब मुंबई या कहीं और नहीं, जयपुर में आकर कपडे उतारने लगीं पूनम पांडे, उनके दीवाने फोटो खींच रहे हैं

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned