दिखा असर : जेएलएन मार्ग पर ट्रैफिक पुलिस की सख्ती से बेकाबू रफ्तार पर एफआईआर दर्ज, मौतों पर लगी लगाम

Jaipur, Rajasthan, India
दिखा असर :  जेएलएन मार्ग पर ट्रैफिक पुलिस की सख्ती से बेकाबू रफ्तार पर एफआईआर दर्ज, मौतों पर लगी लगाम

जेएलएन मार्ग पर तेज रफ्तार से वाहन दौड़ाने वालों के खिलाफ ट्रैफिक पुलिस की सख्ती के बाद अब दुर्घटनाओं में होने वाली मौतों पर लगाम लगी है।

जेएलएन मार्ग पर तेज रफ्तार से वाहन दौड़ाने वालों के खिलाफ ट्रैफिक पुलिस की सख्ती के  बाद अब दुर्घटनाओं में होने वाली मौतों पर लगाम लगी है। यहां 16 फरवरी से 100 से अधिक की गति में गाड़ी चलाने वालों के खिलाफ जान खतरे में डालने के मुकदमे दर्ज करने शुरू किए गए है। इसका असर यह हुआ कि इस  मार्ग  पर पिछले एक माह में कोई बड़ी दुर्घटना नहीं हुई। 






ट्रैफिक पुलिस ने सख्ती दिखाते हुए पहले ही दिन 9 वाहन मालिकों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई। 16 मार्च तक 32 लोगों के खिलाफ मुकदमे दर्ज करवा दिए। 





इस पूरी कवायद से दुर्घटना में होने वाली मौतों का आंकड़ा गिर गया। 16 फरवरी से 16 मार्च तक इस मार्ग पर सिर्फ एक दुर्घटना सामने आई है जिसमें भी कार चालक मामूली घायल हुआ।






वीआईपी रूट में शामिल टोंक रोड के 10.5 किमी हिस्से का मामला - ठेका ले बिसरा दी सफाई, हिदायतों का भी असर नहीं



पहले 9 बड़ी दुर्घटना, 5 की मौत

जेएलएन मार्ग पर 16 फरवरी से दो महीने  पहले 9 बड़ी सड़क दुर्घटनाएं हुई थी। इनमें पांच लोगों की मौत हो चुकी है। दुर्घटना थाना पुलिस की जांच में दुर्घटना के कारण वाहनों की तेज स्पीड रही है।





ट्रैफिक कन्ट्रोल रूम से जुड़े कैमरों पर सीआई नीरज भारद्वाज के नेतृत्व में पुलिस टीम 24 घंटे इस मार्ग पर नजर रखे हुए है। 16 फरवरी से 16 मार्च तक 32 लोग 100 से अधिक की रफ्तार में मिले। मुकदमे दर्ज होने के बाद रफ्तार पर लगाम लगी है।





सलमान मामले में सरकार की अर्जी पर बहस पूरी, 23 को आएगा फैसला






30 जगह और लगेगा ऑटोमेटिक  सिस्टम 

जेएलएन मार्ग पर दुर्घटनाएं रुकने के बाद अब ट्रैफिक पुलिस का रामबाग सहित शहर के 30 अन्य स्थानों पर ऑटोमेटिक स्पीड वॉयलेशन डिटेक्शन सिस्टम लगाने प्रस्ताव है। इससे शहर में अन्य मार्गों पर रफ्तार में दौडऩे वाले वाहन चालकों के खिलाफ मुकदमे दर्ज करवा सड़क दुर्घटनाओं पर अंकुश लगाया जा सके।





5500 को चेतावनी नोटिस, 356 के चालान

जेएलएन मार्ग पर पिछले एक माह में नियमानुसार 60 से अधिक रफ्तार रखने वाले 5500 चौपहिया वाहन मालिकों को चेतावनी नोटिस भिजवाए है। उन्हें चेतावनी दी गई है कि भविष्य में रफ्तार से अधिक वाहन चलाया तो कानूनी कार्रवाई की जाएगी। जबकि 90 से 100 के बीच की रफ्तार में दौड़ाने वाले 356 वाहन चालकों के खिलाफ कार्रवाई की गई है।




राजस्थान में अब सरकार लगाएगी थड़ी—ठेलों के जरिए व्यापार करने वालों की संख्या पता, ये काम होंगे





अन्य मार्गों के लिए भी है प्रस्ताव

जेएलएन मार्ग पर रफ्तार में वाहन दौड़ाने वालों के खिलाफ जान जोखिम में डालने की एफआईआर दर्ज कराने के बाद  दुर्घटनाएं थमी है। इसको देखते हुए अन्य मार्गों पर भी एेसी व्यवस्था लागू करने का प्रस्ताव बनाया जा रहा है।

हैदरअली जैदी, डीसीपी ट्रैफिक

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned