जयपुर में सामने आया है अब तक का सबसे अजीब ये मामला, पढ़कर आप भी रह जाएंगे भौचक्के

Jaipur, Rajasthan, India
जयपुर में सामने आया है अब तक का सबसे अजीब ये मामला, पढ़कर आप भी रह जाएंगे भौचक्के

डॉक्टर ने दूरबीन से पेट के निचले हिस्से में देखा तो पाया कि 6 इंच घेर वाली बोतल काफी बड़ी थी और आड़ी फंसी हुई थी। बिना सर्जरी के निकलना मुश्किल था। मगर कॉरोनोस्कॉप के जरिए कुछ इस तरह बचा लिया युवक को सही-सलामत...

जाने-अनजाने में कहें या किसी एक्साइटमेंट के कारण एक युवक को प्राइवेट पार्ट में बोतल घुसा लेना भारी पड़ गया। बोतल पूरी अंदर चली गई। यह आंतो को डैमेज कर सकती थी। बिना सर्जरी के इसे निकाल पाना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन था।



जयपुर के गेस्ट्रोएंट्रोलॉजिस्ट ने बिना किसी चीरफाड़ के इस बोतल को बाहर निकाल कर युवक की जान बचाने में सफलता प्राप्त की है।



दरअसल सांगानेर क्षेत्र के एक 25 साल का युवक गणेश (परिवर्तित नाम) ने पिछले दिनों उत्तेजना में करीब छह इंच घेर वाली एक डियोडोरेन्ट की बोतल गुदा में घुसा ली। बोतल पूरी अंदर चली गई। इससे उसे बहुत दर्द और परेशानी होने लगी। शर्म के मारे घर वालों को भी यह बात नहीं बताई। अत्यधिक पीड़ा होने और डिप्रेशन में आकर वह सीनियर गेस्ट्रोएंट्रोलॉजिस्ट डॉ. साकेत अग्रवाल के पास पहुंचा। डॉ. अग्रवाल ने नारायणा हॉस्पीटल में एक्स-रे व अन्य जरूरी जांच कराई।


jaipur/man-did-fire-his-bike-at-road-jaipur-2617192.html">
Read: शराब पीने के लिए बेटे को पिता ने 100 रुपए नहीं दिए तो उसने बाइक में बीच सड़क पर आग लगा दी

दूरबीन से देखा तो बोतल काफी बड़ी थी और आड़ी फंसी हुई थी। बिना सर्जरी के निकलना मुश्किल था। उन्होंने मरीज को सर्जरी कराने की सलाह दी, मगर उसने लोकलाज के चलते ऑपरेशन से मना कर दिया। इस पर चिकित्सक ने कॉरोनोस्कॉप मशीन के जरिए बोतल की स्थिति देखी और आड़ी फंसी हुई अवस्था को सीधा करने की कोशिश की।



Read: लहसुन खरीद लिए होते तो 6 किसान नहीं करते आत्महत्या, कितनी संवेदनहीन है ये सरकार: पायलट

परेशानी यह थी कि बोतल इस तरह फंसी हुई थी कि कोई उपकरण अंदर डाला जाता तो वह फट सकती थी जो खतरनाक स्थिति हो जाती। दूरबीन से देखकर अनुभव के आधार पर बोतल को सीधा करने में सफल हो गए और फिर एक उपकरण के सहारे उसे बाहर खींच कर निकाल लिया।


GST-in-rajasthan-2622686.html">
GST से कपड़ा व्यापारी इतने खफा कि काली पट्टी बांध सरकार के खिलाफ रोज कर रहे प्रर्दशन, कहा- हमें कतईं मंजूर नहीं है ये

डॉक्टर बोले- अजब मामला था, लेकिन बचा लिया
हमने पेट व लिवर संबंधी अनेक जटिल केस किए हैं, मगर यह अजीब तरह का मामला था। इस मामले में 100 प्रतिशत सर्जरी ही करनी होती। हमने मरीज की स्थिति देखते उसे बचाने की कोशिश की और बिना सर्जरी कामयाब हो गए।
- डॉ. साकेत अग्रवाल, सीनियर गेस्ट्रोएंट्रोलॉजिस्ट
--



Read: पश्चिमी जिलों से एंट्री के बाद अब 5 दिन के भीतर पूरे राजस्थान में ऐसे बरसेंगे मेघ, ​और गिरेगा टेंपरेचर

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned