OMG पुलिया के पास बना दी मिट्टी की पाल?

Jhalawar, Rajasthan, India
OMG पुलिया के पास बना दी मिट्टी की पाल?

रटलाई के गड़ारी गांव में उजाड़ नदी पर बनाई पुलिया के पास नदी से खोदी खाई की मिट्टी डालने से बारिश में लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ेगा।

रटलाई से देवरी को जोडऩे के लिए नाबार्ड द्वारा करीब  २ करोड़ ८० लाख से गांव गड़ारी में पुलिया का निर्माण किया गया है। 

इससे  ग्राम पंचायत देवरी के गांव ब्रजपुरा, पथ्वीपुरा, पथरी, पथरिया, देवरी, सेमली, धानोदा सहित अन्य गांवों के सैकड़ों लोगों को बारिश में लोगों को राहत मिलेगी । पुलिया का निर्माण २२ अप्रैल २०१६ को शुरू होकर २१ जनवरी २०१७ तक पूरा होना तय किया गया था। पुलिया निर्माण के दौरान जिस साइड से नदी में पानी बहकर आता है उसी साइड में पीलर तक पूरी नदी में मिट्टी की पाल बना दी है जो लोगों के लिए आफत बनेगी। 

नदी में बनी पाल के कारण आस-पास के खेतों में भी पानी भर जाएग। जबकि दूसरी साइड में पुरानी पुलिया की साईड में जो मिट्टी पडी थी वह भी यथावत है। 



Read More: फादर्स-डे पर रिश्ते शर्मसार, बाप ने बनाया बेटी को हवस का शिकार



छिपाने के लिए मिट्टी 

ग्रामीणों ने बताया कि पुलिया निर्माण के दौरान नदी के बहाव की तरफ मिट्टी की पाल पुलिया के घटिया निर्माण को छिपाने के लिए किया है, ताकि बहाव को मिट्टी की पाल कम कर दे, इससे पुलिया के पिलर सुरक्षित रहेंगे। 


सूचना बोर्ड में नम्बर गलत 

पुलिया के निर्माण स्थल पर जो कार्य सूचना बोर्ड पर सार्वजनिक निर्माण विभाग के दो जिम्मेदार अधिकारियों के मोबाइल नम्बर गलत लिखे है ताकि कोई भी नागरिक किसी निर्माण के बारे में जानकारी लेना चाहे तो नम्बर मिल ही नहीं सके। 



Read More: वीडियो में देखिए - गैंगरेप से पैदा हुआ बच्चा, 5 दिन बाद मौत, दफनाया, अब 8 माह बाद निकाला बाहर



इधर अब बरसात में नहीं रूकेगा रास्ता

दहीखेड़ा/पनवाड़. कस्बे से चार किमी दूर पखराना पंचायत के शंकरपुरा-निपानियां गांव के कच्चे मार्ग का मुद्दा कई बार उठाने के बाद ग्राम पंचायत ने सड़क पर ग्रेवल डलाने का कार्य शुरू  कर दिया। 

गांव की जनसख्ंया करीब ५०० से अधिक  है, लेकिन आज भी पनवाड़ के दरा-अरनिया स्टेट हाइवे से नहीं जोड़ा। हरिराम मेहता, बद्री लाल मेहता, नरोताम मेहता, हरिश मेहता सहित लोगों ने बताया कि मुख्य सड़क से गांव चार किमी दूर है। 

बरसात में लोगों को कीचड़ से गुजरना पड़ता है। १६ दिसम्बर २०१६ को 'विकास को तरसता शंकरपुरा-निपानियां' गांव खबर प्रमुखता से प्रकाशित की थी। 


Read More: किसानों ने शक्ति प्रदर्शन कर चेताया, लहसुन गिरा तो उठ नहीं पाएगी सरकार


इसके बाद राज्य सरकार ने दरा-अरनिया स्टेट हाइवे पनवाड़ से शंकरपुरा, ककवासा ५ किमी के लिए तीन करोड़ की स्वीकृती जारी कर दी। इसके बाद २५ मई २०१७ को ग्रेवल नहीं डाली। 

इस पर 'फिर से रास्ता होगा बंद' खबर प्रकाशित होने के बाद ग्राम पंचायत ने शंकरपुरा रोड पर ग्रेविल डालने का कार्य शुरू कर दिया।


उदासीनता से अटका था काम

ग्रामीणों ने बताया कि कार्य दो वर्षों से सरपंच व पूर्व सचिव की उदासीनता के चलते शुरू नहीं हुआ था। वर्तमान सचिव पंकज गौतम ने कार्य को गंभीरता से लेते हुए मनरेगा में कार्य शुरू कर दिया। इससे लोगों में उत्साह का माहौल है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned