डॉक्टर से 50 व ट्रैवल्स मालिक से मांगी 10 लाख की रंगदारी!

Harshwardhan Bhati

Publish: Mar, 20 2017 11:33:00 (IST)

Jodhpur, Rajasthan, India
डॉक्टर से 50 व ट्रैवल्स मालिक से मांगी 10 लाख की रंगदारी!

रंगदारी का अपराध अब राजस्थान में भी घर करता जा रहा है। रंगदारी के साथ घर पर फायरिंग व मर्सिडीज जलाने का मामला सामने आया है। इधर ट्रैवल्स मालिक व कर्मचारियों से भी जांच की जा रही है।

चिकित्सक और ट्रैवल्स मालिक के मकान पर फायरिंग व मर्सिडीज को आग लगाने के कारणों का अभी तक पता नहीं लग पाया है, लेकिन दोनों के पास आए इंटरनेट कॉल पर विश्वास किया जाए तो हमला करवाने वाले चिकित्सक से पचास लाख और जैन ट्रैवल्स के मालिक से दस लाख रुपए की रंगदारी वसूल करना चाहते हैं।

जान से मारने की धमकी

हमलावर चिकित्सक व उसके परिवार को जान से मारने की धमकी तक दे चुका है। हमलावरों के पकड़ में न आने से दोनों ही परिवार से जुडे़ लोग अभी तक दहशत में हैं। तीन दिन बाद भी खाली हाथ पुलिस ने चुप्पी साध रखी है।

कैलाश मांजू पर संदेह

वारदात के पीछे पंजाब की फरीदकोट जेल में बंद कुख्यात अपराधी लॉरेंस बिश्नोई व कैलाश मांजू पर संदेह जताया जा रहा है। गत चार मार्च को जैन ट्रैवल्स में एक युवक हथियार लेकर घुसने से दो-तीन दिन पूर्व टूर्स एण्ड ट्रैवल्स संचालक के मोबाइल पर इंटरनेट कॉल आया था। संचालक मनीष जैन का मित्र है। खुद को लॉरेंस बिश्नोई बताने वाले उस व्यक्ति ने मनीष जैन से दस लाख रुपए दिलवाने की धमकी दी थी। जबकि एफआईआर में इंटरनेट कॉल मनीष के मोबाइल पर आने की जानकारी दी गई थी।

संचालक से पूछताछ

टूर्स एंड ट्रैवल्स संचालक से पूछताछ में यह सामने आ गया। लॉरेंस से समझौता कराने के लिए संचालक ने ही मनीष का सम्पर्क हार्डकोर कैलाश मांजू से कराया था। अब पुलिस लॉरेंस से पूछताछ के लिए फरीदकोट जाने पर विचार कर रही है। पंजाब के कुख्यत बदमाश के जोधपुर में वारदात करने से पुलिस पशोपेश में है। पुलिस का मानना है कि कैलाश व लॉरेंस सम्पर्क में हैं। एेसे में हो सकता है कि उसने कैलाश के इशारे पर हमला करवाया हो। लॉरेंस के दो गुर्गों के जोधपुर जेल में बंद होने की जानकारी है।

दोनों हमलों की नहीं जुड़ रही कड़ी

पुलिस का मानना है कि गत सत्रह मार्च को समन्वय नगर में डॉ सुनील चाण्डक व सेक्टर सात में मनीष जैन के मकान में फायरिंग करने वाली एक ही गैंग थी। एेसे में हमले के कारण भी समान होने चाहिए। मनीष जैन पर हमले के पीछे लॉरेंस बिश्नोई अथवा कैलाश मांजू पर संदेह जताया जा रहा हो, लेकिन चिकित्सक का इन दोनों से लेना-देना तक नहीं है।

नाकामी छुपाने के लिए पर्दा डलवा रही पुलिस

सुबह छह बजे मकान पर फायरिंग के बाद देर रात डॉ सुनील चाण्डक के मोबाइल पर इंटरनेट कॉल आया था। खुद को बाहेती गैंग से जुड़ा होने की जानकारी देकर उस व्यक्ति ने पचास लाख रुपए की डिमाण्ड की थी। एेसा न करने पर परिवार को मारने की धमकी तक दी थी। साथ ही यह भी चेताया कि चिकित्सक के पास पुलिस होगी, लेकिन उसे कोई फर्क नहीं पड़ता है। अब पुलिस खुद की नाकामी पर पर्दा डलवाने के लिए धमकी भरे कॉल के बारे में किसी को भी बताने से मना कर रही है।

सफलता नहीं मिली

'फायरिंग मामले में अभी तक कोई सफलता नहीं मिली है। कुछ सुराग मिले हैं। उन पर कार्य किया जा रहा है।

समीर कुमार सिंह, पुलिस उपायुक्त (पश्चिम) जोधपुर


Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned