फुटबॉल को टॉप पर ले जाने के लिए और सुधार की जरूरत: बाईचुंग भूटिया

Jodhpur, Rajasthan, India
फुटबॉल को टॉप पर ले जाने के लिए और सुधार की जरूरत: बाईचुंग भूटिया

अन्तरराष्ट्रीय खेल फुटबॉल में भारत को अपना स्थान बनाने के लिए सुधार की जरूरत है। इस खेल को टॉप पर ले जाने के लिए और मेहनत की जरूरत है।यह बात अर्जुन अवार्डी, पद्मश्री व पूर्व भारतीय फुटबॉल कप्तान बाईचुंग भूटिया ने कही।

अर्जुन अवार्डी, पद्मश्री व पूर्व भारतीय फुटबॉल कप्तान बाईचुंग भूटिया ने  बताया कि बच्चों के अलग-अलग आयु वर्ग अंडर 14, 16 व 19 में टूर्नामेंट होना शुरू हुए हैं, जो इस खेल में सुधार की दिशा में एक अच्छा कदम है, लेकिन विश्व में भारत की पहचान बनाने के लिए काफी मेहनत की जरूरत है। वर्ष 2011 में फुटबॉल से सन्यास लेने के बाद वर्तमान में भूटिया फुटबॉल के विकास के लिए फैडरेशन ऑफ इंडिया से जुड़े हुए हैं। साथ ही, वर्ष 2010 में बाईचुंग भूटिया फुटबॉल स्कूल खोली, जिनमें खिलाडि़यों को तैयार कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि आगामी अक्टूबर माह में अंडर 17 फुटबॉल विश्व कप भारत में होगा, उम्मीद है भारत का अच्छा प्रदर्शन होगा।

लोगों की मानसिकता बदली है

भूटिया ने बताया कि यह खेल धीरे-धीरे आगे बढ़ रहा है। हमारे समय में संकीर्ण मानसिकता थी कि अगर बच्चा खेल में जाएग तो पीछे रह जाएगा। जबकि अब लोग अपने बच्चों को खेलों में भेजने लगे हैं, जिसके परिणाम भी आ रहे है। इससे यह लगता है कि अब लोगों की मानसिकता बदली है।

स्पोट्र्स को लोकप्रिय करने में मीडिया का सहयोग

भूटिया ने बताया कि अब सरकार भी खेलों को लेकर सीरियस हुई है। खेलों व खिलाडि़यों को प्रोत्साहन देने के लिए कई योजनाएं बनी है। खेलों में लीग सिस्टम शुरू हुआ है, जिनको लोकप्रिय करने में मीडिया का विशेष सहयोग रहा है, यह स्पोट्र्स के लिए अच्छी बात है।


Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned