अब जेएनवीयू में मिलेगा उद्यमिता प्रशिक्षण, केन्द्र के लिए स्वीकृत हुए 1 करोड़ रुपए

Jodhpur, Rajasthan, India
अब जेएनवीयू में मिलेगा उद्यमिता प्रशिक्षण, केन्द्र के लिए स्वीकृत हुए 1 करोड़ रुपए

भारत सरकार के सूक्ष्म लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय की ओर से जयनारायण व्यास विश्वविद्यालय के प्रबंध अध्ययन विभाग में स्वीकृत उद्यमिता और लघु व्यवसाय प्रबन्ध केन्द्र के लिए केन्द्र सरकार ने प्रथम चरण में एक करोड़ रुपए स्वीकृत किए हैं।

भारत सरकार के सूक्ष्म लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय की ओर से जयनारायण व्यास विश्वविद्यालय के प्रबंध अध्ययन विभाग में स्वीकृत उद्यमिता और लघु व्यवसाय प्रबन्ध केन्द्र के लिए केन्द्र सरकार ने प्रथम चरण में एक करोड़ रुपए स्वीकृत किए हैं। विभागाध्यक्ष प्रो. शिशुपालसिंह भादू ने बताया कि इसके अलावा 1.5 करोड़ रुपए विश्वविद्यालय का प्रबंध अध्ययन विभाग सहयोजित राशि के रूप में देगा। इसमें से लगभग 2 करोड़ रुपए की लागत से भवन का निर्माण किया जाएगा।


सलमान मामले में सरकार की अर्जी पर बहस पूरी, 23 को आएगा फैसला


तीन करोड़ की आएगी लागत


भवन निर्माण, साज-सज्जा, कम्प्यूटर व पुस्तकालय विकास के लिए यह राशि स्वीकृत की गई है। प्रथम चरण का कार्य पूरा करने पर दूसरे चरण में 1 करोड़ रुपए और स्वीकृृत करने का प्रावधान है। इस प्रकार भारत सरकार 2.5 करोड़ रुपए की कुल वित्तीय सहायता आधारभूत संरचना के लिए देगा। इस प्रकार इस केन्द्र की स्थापना में 3.5 करोड़ रुपए की लागत आएगी।


एक्टर बनने की चाह ने पहुंचा दिया पाकिस्तान, अपहरण के बाद गांव में हुआ कैद


इनका मिलेगा प्रशिक्षण


केन्द्र में विभिन्न प्रशिक्षण कार्यक्रम विभिन्न वर्गों के लिए आयोजित किए जाएंगे। पश्चिमी राजस्थान के अपार संभावनाओं वाले क्षेत्रों जैसे हैण्डीफ्राप्ट, हस्तशिल्प,पत्थर,बीज की चूरी, ग्वार गम, टेक्सटाइल्स डिजाइनिग, लघु इन्र्फोमेशन टेक्नोलॉजी वर्क आदि क्षेत्रों में नए अनुसंधान करने के साथ-साथ अन्य क्षेत्र को हेल्थ स्पा, रेस्टोरेन्ट आदि भविष्य की सबसे ज्यादा सम्भावनाओं वाले क्षेत्रों में उद्यमिता विकास के लिए विभिन्न अल्पकालीन प्रशिक्षण कार्यक्रमों स्थापित किए जाएंगे।


अजान की दिलकश सदा की कशिश का क्या है राज, जानिए इबादत का ये पहलू


नए उद्यमों को मिलेगा प्रोत्साहन


'बदलते व्यावसायिक वातावरण में अपने स्थापित व्यवसाय में आने वाली नई चुनौतियों का सामना करने के लिए यह केन्द्र वरदान साबित होगा। प्रस्तावित केन्द्र नए उद्यमों को प्रोत्साहित करने के लिए केन्द्रीयकृत केन्द्र के रूप में काम करेगा।

- प्रो. शिशुपालसिंह भादू, विभागाध्यक्ष, प्रबंध अध्ययन केन्द्र

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned