खुशखबरी : एक्सपोर्टर्स को टेक्नोलॉजी अपग्रेडेशन के लिए मिलेगी 30 प्रतिशत सब्सिडी

Jodhpur, Rajasthan, India
खुशखबरी : एक्सपोर्टर्स को टेक्नोलॉजी अपग्रेडेशन के लिए मिलेगी 30 प्रतिशत सब्सिडी

जोधपुर का हैंडीक्राफ्ट कितना सराहा जाता है इस बात का अंदाजा इससे ही लगाया जा सकता है कि इसके बढ़ावे के लिए सरकार नई स्कीम्स भी निकालती रहती है। इस बार एक्सपोर्टर्स को ये सौगात मिलने वाली है। जानिए आप...

अन्तरराष्ट्रीय स्तर तक पहचान बना चुके जोधपुर के हैण्डीक्राफ्ट उत्पादों की मांग के कारण केन्द्रीय वस्त्र मंत्रालय ने वर्ष 2011 में जोधपुर को हैण्डीक्राफ्ट का मेगा क्लस्टर घोषित किया था। इस प्रोजेक्ट के तहत अनेक डवलपमेंट प्रोजेक्ट चल रहे हैं। हैण्डीक्राफ्ट मेगा क्लस्टर के कार्य ने अब गति पकड़ ली है। हाल ही हैण्डीक्राफ्ट मेगा क्लस्टर के अन्तर्गत व्यापक हस्तशिल्प क्लस्टर विकास योजना के तहत जोधपुर के निर्यातकों के लिए टेक्नोलॉजी अपग्रेडेशन स्कीम दी जा रही है।


खुशखबरी : एम्स को मिलेंगे 208 नए डॉक्टर, खुलेंगे सुपर स्पेशियेलिटी सेंटर्स


केन्द्रीय वस्त्र मंत्रालय के हस्तशिल्प विकास आयुक्त कार्यालय की ओर से इस योजना के तहत जोधपुर के 20 निर्यातकों को इम्पोर्टेड मशीनें व टेक्नोलॉजी अपग्रेड करने के लिए 30 प्रतिशत या 30 लाख रुपए तक की सब्सिडी दी जाएगी। इसके लिए निर्यातकों को 31 मार्च 2017 से पहले एक्सप्रेशन ऑफ इंट्रेस्ट का फॉर्म विकास आयुक्त कार्यालय को भेजना होगा। इस स्कीम को बिड द्वारा फाइनल किया जाएगा और इसके आधार पर 20 निर्यातकों को सब्सिडी दी जाएगी।


राज्य के एकमात्र शारीरिक शिक्षा महाविद्यालय का गल्र्स हॉस्टल असुरक्षित, बाथरूम के दरवाजे तक नहीं


निर्यातकों के लिए सौगात


जोधपुर हैण्डीक्राफ्ट्स एक्सपोर्टर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष डा. भरत दिनेश के अनुसार यह प्रोजेक्ट जोधपुर के हैण्डीक्राफ्ट निर्यातकों के लिए सौगात है। इस प्रोजेक्ट का मकसद यहां से निर्यात होने वाले हस्तशिल्प उत्पादों की क्वालिटी की गुणवत्ता को बढ़ाना है, जिससे का निर्यात और अधिक बढ़ सके। हैण्डीक्राफ्ट की गुणवत्ता बढ़ाने में विदेशी मशीनों का अहम रोल होता है। जोधपुर के कई बड़े निर्यातकों के यहां वुड फिनीशिंग करने के लिए इम्पोर्टेड प्लांट लगा रखा है, जिससे कम समय में अच्छी क्वालिटी सहित अधिक उत्पादन किया जा सकता है।


एेतिहासिक शीतला माता मेला 20 से, मेले की तैयारियों में जुटा मंदिर, झूले लगने शुरू


यह होगा मेगा क्लस्टर के तहत


स्किल ट्रेनिंग - एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल फोर हैण्डीक्राफ्ट्स (ईपीसीएच) 10 हजार आर्टिजन्स को स्किल ट्रेनिंग देगा।

ट्रेड फैसिलिटी सेंटर- इसके तहत ईपीसीएच ने 6 करोड़ 17 लाख में बोरानाडा में जमीन खरीदी है।

टूल किट - इस प्रोजेक्ट के तहत यहां के आर्टिजन्स को 15 हजार टूल किट वितरित किए जाएंगे।

डिजाइन इनोवेशन व प्रोडक्ट डवलपमेंट- यह प्रोजेक्ट निफ्ट के सुपरविजन में होना है। इसके लिए 447 लाख का बजट पारित हो चुका है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned