आईईएस में फलोदी के गौरव ने देश में किया टॉप

Harshwardhan Bhati

Publish: Dec, 01 2016 01:13:00 (IST)

Jodhpur, Rajasthan, India
आईईएस में फलोदी के गौरव ने देश में किया टॉप

भारतीय अभियांत्रिकी सेवा (आईईएस) परीक्षा में फलोदी का गौरव राजपुरोहित देश भर की वरीयता सूची में पहले स्थान पर रहा। संघ लोक सेवा आयोग की ओर मंगलवार को घोषित परिणाम में गौरव ने पहले प्रयास में यह सफलता पाई हैं।

भारतीय अभियांत्रिकी सेवा (आईईएस) परीक्षा में फलोदी का गौरव राजपुरोहित देश भर की वरीयता सूची में पहले स्थान पर रहा। संघ लोक सेवा आयोग की ओर मंगलवार को घोषित परिणाम में गौरव ने पहले प्रयास में यह सफलता पाई हैं।


22 वर्ष की उम्र बना आईईएस


फलोदी निवासी 22 वर्षीय गौरव राजपुरोहित ने 84 फीसदी अंकों के साथ बारहवीं कक्षा उत्तीर्ण की थी। 16 वर्ष की आयु में ही प्रथम प्रयास में उसका आईआईटी में चयन हो गया। आईआईटी, दिल्ली से बीटेक (इलेक्ट्रिल इंजीनियरिंग) किया हैं।


गौरव ने सफलता का श्रेय माता सिरिया- पिता गुमानसिंह राजपुरोहित (सेवानिवृत तहसीलदार) व आईआईटी, दिल्ली की प्रोफेसर भुवनेश्वरी को दिया है। भाई हरिसिंह राजपुरोहित भी इंजीनियर है तथा हाल ही में रेलवे में कनिष्ठ अभियंता के पद पर चयन हुआ है।


नहीं छोडऩा चाहते थे इंजीनियरिंग

गौरव का कहना है कि वे किसी भी परिस्थिति में इंजीनियरिंग नहीं छोडऩा चाहते थे। इसलिए उन्होंने प्रशासनिक सेवा की बजाय आईईएस को चुना


अनिल कटारिया ने प्राप्त की 139 वी रैंक


इसी परीक्षा में खींचन निवासी अनिल कटारिया ने 139 वीं रैंक प्राप्त की है। उन्होंने एमएनआईटी, जयपुर से बी.टेक. (मैकेनीकल इंजीनियरिंग) किया था तथा वर्तमान में आईओसी, गुडग़ांव में अधिकारी पद पर कार्यरत है। अनिल के पिता भंवरलाल मेघवाल ओसियां (जोधपुर) में उपकोषाधिकारी के पद कार्यरत है। 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned